News

Centers

बहुजन हिताय प्रोजेक्ट, लातूर

13-10-2021

By Dh Kalyndassi Center-Triratna

बहुजन हिताय ट्रस्ट, पुणे-संचलित बहुजन हिताय प्रोजेक्ट, लातूर आज दि.13/10/2021 रोजी सुभेदार रामजी नगर, विक्रम नगर, कपिल नगर, नरसिह नगर, या भागातील कोरोना मुळे मृत्यू पावलेले, कोरोना बाधीत कुटुंबाला, कॅन्सरग्रस्त, ऑपरेशन पेसेंट, विधवा महिला, वसतिगृहाततील माझी कर्मचारी अशा विविध 32 परिवाराला अन्नधान्य किट व शालेय साहित्य वाटप केले.

महाविहार महास्वच्छता दिवस - पुणे

09-10-2021

By Dh Sudipta Center - Pune Mahavihar

महाविहार महास्वच्छता दिवस 
" माझे महाविहार, स्वच्छ महाविहार " 
भगिनींनो आणि  बंधूनो ,
नमो बुध्दाय ! जय भीम !! जय उर्ग्येन !!!
आपण सुखी व आनंदी असाल अशी अपेक्षा आहे, आपणा सर्वांच्या माहितीप्रमाणे गुरुवारी मिटिंग मध्ये ठरल्याप्रमाणे आपण दि. १० ऑक्टोबर, रविवार सकाळी ९:३० वा. सर्वजण महाविहारामध्ये महास्वछतेसाठी एकत्र येणार आहोत, नेहमीची सार्वजनिक पूजा घेऊन, त्या विधायक वातावरणामध्ये आपण स्वच्छतेसाठी सुरुवात करणार आहोत . 
संघ चैतन्याचा आनंद घेण्यासाठी आणि श्रमदानाची संधी मिळवण्यासाठी आपण सर्वजण ह्या महास्वछतेमध्ये सहभाग व्हाल हि अपेक्षा , आपल्या धम्मचारी व धम्ममित्र चॅप्टर मधील सर्वाना माहिती देऊन त्यांना प्रेरणा द्याल व इतर सर्व धम्मसहाय्यक आणि हितचिंतकापर्यंत हि सूचना पोहचवाल अशी अपेक्षा !
सूचना :-  चहापानाची व्यवस्था केलीली आहे व स्वतः साठी जुने कपडे घेऊन येणे !
 " माझे महाविहार, स्वच्छ महाविहार " 
धन्यवाद , 
खूप मैत्री,
धम्मचक्र प्रवर्तन महाविहार !

दान अपील- महाविहार पुणे

09-10-2021

By Sudipta Center - Pune Mahavihar

परमपुज्यनीय बोधिसत्त्व डॉक्टर बाबासाहेब आंबेडकर यांनी १४ ऑक्टोबर १९५६ साली पूर्वाश्रमीच्या अस्पृष्य लोंकाना बौद्ध धर्माची दीक्षा देऊन जणू काही नवीन जीवन देऊन स्वाभिमानाने जगायला शिकवले, हीच बाबासाहेबांची प्रेरणा घेऊन पूज्य भदंत उर्ग्येन संघरक्षितांनी १९७९ साली त्रिरत्न बौद्ध महासंघाची (त्रैलोक्य बौद्ध महासंघाची) स्थापना केली , धम्म प्रचार आणि धम्म प्रसारासाठी १९९२ मध्ये धम्मचक्र प्रवर्तन महाविहाराची , दापोडी , पुणे येथे स्थापना केली व त्याचे उदघाटन केले. 

गेली जवळ जवळ तीन दशके महाविहारामध्ये अविरत पणे धम्म प्रचार व प्रसाराचे काम चालू आहे , आणि संपूर्ण भारत देशाला  धम्म प्रचारक मिळावे ह्यासाठी   प्रयत्नशील आहे, विशेषतः युवक व युवती यांना ध्यानाद्वारे आत्मविश्वास व आत्मनिर्भय करण्याचा प्रयत्न चालू आहे , MPSC/UPSC  ट्रैनिंग केंद्रा द्वारे अतिशय गरिबी व प्रतिकूल परिस्थिती मधून आलेल्या युवक व युवती यांना  अधिकारी बनण्यासाठी मदत करुन , बाबासाहेबांच्या स्वप्नातील  शासन कर्ती जमात बनवण्याचा प्रयत्न चालू आहे . 

ह्याच महाविहारामध्ये  भन्ते उर्ग्येन संघरक्षिताचे वास्तव्य राहिले आहे, तसेंच पुज्यनीय दलाई लामा , आदरणीय माईसाहेब आंबेडकर , आदरणीय नानकचंद रत्तू असे अनेक महान लोकांनी  ह्या महाविहाराला भेट दिली आहे.

आपणा सर्वांच्या माहितीप्रमाणे कोरोना महामारीमुळे गेल्या दीड वर्षांपासून आपले महाविहार बंद आहे. तसेच पर्यटकांचे येणे बंद असल्याने आपल्याला दान मिळाले नाही , अशा भव्य महाविहाराची देखरेख, त्याची सुरक्षा आणि इमारतीच्या मेंटेनन्स चा प्रचंड खर्च आहे .  सध्या कुठल्याही प्रकारचे आपल्याला दान मिळत नाही . धम्मचक्र प्रवर्तन महाविहार मोठ्या आर्थिक संकटामध्ये आहे . 

बाबासाहेबांच्या स्वप्नातील प्रबुद्ध भारत निर्माण करण्यासाठी " धम्मचक्र प्रवर्तन महाविहार " मध्ये धम्म प्रचार प्रसाराचे काम अविरत चालणे गरजेचे आहे आणि त्यासाठी आपण सर्वानी खारीचा वाटा उचलणे गरजेचे आहे. तेव्हा आपणा सर्वांना सढळ हाताने दान करण्याचे आम्ही आव्हान करत आहोत !

A/C Name:- TRAILOKYA BAUDDHA MAHASANGHA SAHAYAKA GANA

A/C No. :-  40319822194

IFSC Code :- SBIN0014730

MICR :- 411002089

Bank Name :- SBI Bank

प्रत्येकाने आपल्या उत्पन्नाचा काही हिस्सा धम्म प्रचार व प्रसारासाठी द्यावे हे आपणा सर्वांचे आद्य कर्तव्य आहे.

बोधिसत्त्व बाबासाहेब आंबेडकर 

अधिक माहितीसाठी संपर्क ,

धम्मचारी प्रसन्नरत्न - ९७३००७०३५१

धम्मचारी सुविद्य - ८८८८०१५१५९

धम्मचारी सुदीप्त - ९५१८३९३८४५

धन्यवाद , खूप मैत्री !

धम्मचक्र प्रवर्तन महाविहार, दापोडी ,पुणे  !

केंद्राच्या उद्घाटन समारंभ -गडचिरोली

01-10-2021

By DH KSHANTIPRABH Center - GADCHIROLI

प्रिय धम्म  बंधू आणि भगिनींनो
सर्वांना नमो बुद्धाय जय भीम
त्रिरत्न बुद्ध महासंघ गडचिरोली केंद्राच्या उद्घाटन समारंभा मध्ये आपणास हार्दिक स्वागत करात आहे.शनिवार दिनांक 02 ओक्टोबर 2021 ला सोहळा होणार  आहे तरी सर्वानी सकाळी 11:00 वाजता उपस्थित राहावे ही विनंती 
आपले विनीत 
त्रिरत्न बौद्ध महासंघ ,गडचिरोली
संपर्क :- 7499156445 , 9421733299 


जनरल अभ्यास वर्ग

19-09-2021

By Dh Karmaditya Center-Triratna

आज दिनांक 19-09-2021 कोTBMS  देहरादून द्बारा आयोजित कार्यक्रम बुध्द विहार गुजरोवाली

जनरल अभ्यास वर्ग सम्पन्न

पूजा एवं ध्यान: धम्म मित्र ऊषा

नेतृत्व एवं प्रवचन:-धम्मचारी कर्मादित्य

धम्मपालन गाथा:-धम्ममित्र लाल जी

समय:-10:00 बजे से 12 बजे सुबह

अनागारिक धम्मपाल जी की जयंती - मोदीनगर केंद्र

19-09-2021

By Dh Akshobhyavajra Center-Triratna

TBM मोदीनगर केंद्र

   ##सूचना##

आप सभी को सूचित करते हुए बड़ा हर्ष हो रहा है कि आज त्रिरत्न बौध्द महासंघ मोदीनगर केंद्र में बोधिसत्व अनागारिक धम्मपाल जी की जयंती/जन्मदिवश बड़े हर्षोउल्लास के साथ बनाया गया।आज के प्रवचनकार धम्मचारी ज्ञानसागर जी ने धम्मपाल जी की जीवनी व उनके दुवारा भारत मे बौद्ध धम्म के पुनरुद्धार,विकास के किए गए कार्यो के बारे में विस्तार से बड़े सुंदर,रोचक व सारगर्भित प्रवचन दिया।

प्रोग्राम का संचालन धम्मचारी विमलादित्य ने दिया।महिला टीम ने पूजा वंदना कराई और आभार प्रदर्शन विमलादित्य जी ने किया।प्रोग्राम में धम्मचारी और धम्मचरिणी उपस्तिथ रही,धम्म मित्र,धम्म सहायक उपस्थित रहे।प्रोग्राम में लगभग 50 लोगो ने धम्मलाभ लिया।मैं स्वम् धम्मचारी अक्षोभयवज्र और हमारी त्रिरत्न टीम सभी लोगो का पुण्यानुमोदन करते है।आज के प्रवचनकार ज्ञानसागर जी,संचालन कर्ता, विमलादित्य और महिला टीम का भी त्रिरत्न बौद्ध महासंघ केंद्र मोदीनगर टीम स्वागत व अभिनंदन,और पुण्यअनुमोदन,आभार,धन्यवाद अदा करते है।

प्रेषक-चेयरमेन त्रिरत्न बौद्ध महासंघ  मोदीनगर केंद्र।

लेखन कार्य-धम्मचारी अक्षोभयवज्र, मोदीनगर केंद्र।

सब्बे सत्ता सुखी होन्तु

भारत मे पहली बार

16-07-2021

By Dh Tejdhamma Center-Triratna

प्रिय संघ भाईयो और बहनों,

हम पीछले कुछ कालावधी से किन्नर समाज के साथ संपर्क बनाये हुये है और उनके लिये काम कर रहे है. भारत मे पहली बार किन्नर समुदाय के लिये तीन दिवसीय  शिबिर (10 to 13 August) का आयोजन किया गया है, यह शिबिर अपने आप मे विशेष है क्योंकि तृतीयपंथी/ किन्नर समाज के लोग ध्यान सीखने वाले है.
हम जानते है धम्म शिबीर से और ध्यान के शिबीर से हम काफी लाभान्वित होते है. पहिली बार किन्नर समाज के लोग इसमे अपनी रुची दिखा रहे है ,  इस पुरे  शिबिर को स्पॉन्सरशिप की आवश्यकता है. इस शिबिर के शिबिरार्थी के लिये कृपया मुक्तहस्त से दान कीजिए , दान करने के बाद कृपया स्क्रीन शॉट 8459401059 पर भेजीये.
Bank details :
Name of the Account : People to People Society, Nagpur
Bank Account No. : 60023924510
IFSC Code   : MAHB0000005
Name of the Bank : Bank of Maharashtra
Branch    
        : Nagpur Sitabuldi (5)
For Online payment: https://peopletopeople.org.in/support/covid19-relief-fund/



ब्राह्मणी धर्म, बौद्धधम्म आणि हिंदूधर्म पुस्तक

00-00-0000

By Dh Nagketu Center-Triratna

प्रिय धम्म  बंधू आणि भगिनींनो 
नमो बुद्धाय जय भीम

ब्राह्मणी धर्म, बौद्धधम्म आणि हिंदूधर्म त्यांचा उगम आणि परस्पर प्रभाव प्रा. डाॅ. लालमणी जोशी लिखित एक शोध ग्रंथ सर्वप्रथम १९७० साली बौद्ध प्रकाशन सोसायटी, श्रीलंका येथे प्रथमतः इंग्रजीत प्रकाशित करण्यात आला. डाॅ. लालमणी जोशी हे भारतीय संस्कृती, भाषा याचे एक गाढे अभ्यासक आणि चिंतक होते. ते एक सुप्रसिद्ध इंडोलाॅजिस्ट होते. इतिहासाच्या पानांतुन त्यांनी आपणासाठी या पुस्तकाच्या माध्यमातुन सत्य शोधुन काढले आहे. ' ब्राह्मणी धर्म, बौद्धधम्म आणि हिंदूधर्म' या पुस्तकाच्या अनेक भारतीय भाषांसह स्पैनिश व इतर अनेक विदेशी भाषांमध्ये अनुवाद प्रकाशित झाला आहे. आजच्या काळात सर्वांकडे संग्रह म्हणुन पाहिजे असणारे पुस्तक.
एकूण पाने ७०
मुल्य १०० ₹
आजच आपल्या प्रतीसाठी संपर्क करा.एकुण पाने ७० मुल्य १०० ₹ I just listed: Brhmani dharma, Bouddha Dhamma ani Hindu dharma [paperback] Dr. Lalmani Joshi [Jan 01, 2020], for ₹100.00 via @amazon https://www.amazon.in/gp/product/B09BZP85QQ/ref=cx_skuctr_share?smid=A32Q3ESEBPUTZ5
धम्मचारी श्रमणमित्र 9860258907

पर्यावरण निति मूलय

22-06-2021

By Dh Tejdarshan Center-Triratna

Dear Dhamma brother and sister

Namo BuddhayJai Bhim

Weekend Camp Hsuen Tsang Retreat Center,
Lead by Tejdarshan Padmabodhi Bhordharan Kumarjeev
2-4 July 2021 
Suggested Donation INR 600/-
Feel free to donate more to help center in this difficult time.
Contact82379 98898 80804 00793

 धम्मभाईयों और बहनों !

सप्रेम जयभीम !

नमो बुद्धाय !

धम्मचारी तेजदर्शन पद्मबोधि भोर्धरन कुमारजीव के नेतृत्व में २-४ जुलाई २०२१ संपर्क सुझाए गए दान INR ६००/- इस कठिन समय में सहायता केंद्र के लिए और अधिक दान करने के लिए स्वतंत्र महसूस करें।

An appeal for Bhaje Retreat Center

18-06-2021

By Suchandra Center - Retreat Center Bhaje

Dear Friends,

For many  decades at village Bhaje the Centre provides a wonderful environment for meditation, located on the outskirts of Bhaja village and within a line of sight view  to the historic Bhaja caves. It primarily caters to people from the lower socio-economic groups and is one of the few places where they can go to meditate and study at a highly subsidized cost. This is an appeal for donations for the Bhaja  Retreat Centre.

Over the last year, due to the pandemic, no retreats could be run at the centre  which led to a  major loss of income. The team has been running retreats online,  which have been helpful to people. However since the retreat costs were kept extremely low, in view of the fact that many of the participants themselves were suffering from a major loss of income, the funds raised in this way have been quite small. Further, recent major changes to the rules and regulations of running  of the charitable trusts has also added to the severity of the situation. The little buffer money that was accumulated over the years can no longer be used to cover the costs of running the centre.

Even if no retreats are being conducted, there are expenses associated with the keeping and maintaining of the buildings and the facilities in good condition.   Approximately Rs. 66,000 per month is the total stipend for the team of about ten people working to maintain and run the Bhaja centre. This gives an idea about the requirement of funds just towards the operational costs.

This appeal is made to make donations to the Bhaja Retreat Centre, so that it can be maintained in a condition that allows it to continue offering space and facilities for retreats and meditation for all.

 Please send the transaction details along with your address to Suchandra (7498526194)  so that  the receipt for your donation, with the 80G details could be sent to you.

Thanking you

Saddhamma Pradip Retreat Center

 

Account Name: TBMSG PUNE SADDHAMMA PRADEEP IC
 ACCOUNT No. : 60383165061
 IFSC Code   : MAHB0001110
 BANK OF MAHARASHTRA
 BRANCH KARLA  (1110)


COVID-19 RELIEF WORK PEOPLE'S KITCHEN

18-06-2021

By Dh Tejdhamma Center-Triratna

Dear Brother and sister
Namo Buddhay Jai bhim

PEOPLE TO PEOPLE SOCIETY NAGPUR "Transforming Self & World"
We have organized  COVID-19 RELIEF WORK PEOPLE'S KITCHEN (Free Food Distribution)
Don't wait. Help us to Help Others: People to People Society, Nagpur

Name of the Account: 6002392451
IFSC Code : MAHB0000005
Name of the Bank: Bank of Maharashtra

Thank you so much for your donation!

बुद्ध जयंती - अश्वघोष सांस्कृतिक केंद्र

23-05-2021

By Dh Karmavajra Center-Triratna

धम्मभाईयों और बहनों !

सप्रेम जयभीम !

नमो बुद्धाय !

आप सभी को बुद्ध जयंती की बहोत बहोत बधाई !

अश्वघोष सांस्कृतिक केंद्र द्वारा आयोजित इस मंगलमय पर्व पर बुद्धगीतों की संगीतमय गीतमाला भ. बुद्ध के चरणों में अर्पण कर बुद्धगुणों का स्मरण करें ।

28 मई 2021 को शाम 6:30 बजे केंद्र लेकर आ रहा है बुद्धगीतों का मधूर कार्यक्रम ।

मिलते हैं . . .

झूम अँप और यु ट्यूबु पर ।

https://youtu.be/V3Z2NwIGhA4

https://us02web.zoom.us/j/88121055263?pwd=UVRMTW5jaHAyRXR4dUNNRXRUOHhrZz09

Meeting ID: 88121055263

Passcode: Buddha   

इस कार्यक्रम के अधिक जानकरी के लिए आप धम्मचारी अनोमसिद्धी, प्रबोधमित्र, अश्वघोष, मैत्रेयादित्य, और धम्ममित्र शरद गजभिये इनसे संपर्क करे |

आप सभी परिवार के साथ इस कार्यक्रम में आमंत्रित है |

मैत्री से

अश्वघोष सांस्कृतिक केंद्र भारत 

वक्तृत्व ,चित्रकला ,निबंध ,प्रश्नमंजुषा स्पर्धा - भुसावळ

21-05-2021

By Dh Adyaratna Center-Triratna

प्रिय धम्म बंधू आणि भगिनीनो
नमो बुद्धाय जयभीम

त्रिरत्न बौद्ध महासंघ भुसावळ केंद्राचे वतीने  आयोजित ऑन लाईन ऑनलाईन बुद्ध जयंती महोत्सव आपणास हार्दिक स्वागत करात आहे.

विशेष कार्यक्रम                                   

वक्तृत्व , चित्रकला  , निबंध  , प्रश्नमंजुषा स्पर्धा 

Join Zoom Meeting

झूम मिटिंग लिंक ला क्लिक करून आपण वर्गात सहभागी व्हावे

Meeting ID: 7221074279
Passcode: 1234

नोटिफिकेशन मिळण्याकरिता गूगल प्ले स्टोर वरून triratana india एप डाउनलोड करा https://www.triratnaindia.in   या वेब साईट 

त्रिरत्न डॉक्टर टेलीकंसल्टिंग टीम भारत

22-06-2021

By DOCTOR Center-Triratna

त्रिरत्न डॉक्टर टेलीकंसल्टिंग और काउंसलिंग टीम भारत 
कोविड 19 -टेलीफोन कौन्सिलिग और मार्गदर्शन
दुनिया के हर इंसान पर कोरोना कहर बरपा रहा है, यह देखा गया है कि दूसरी लहर पिछले साल की तुलना में घातक है । हर दिन कोरोना मामलों की संख्या बढ़ रही है । अस्पताल भरे हुए हैं अस्पतालों में बेड, ऑक्सीजन, आवश्यक दवाओं और अन्य प्रावधानों की कमी है,  यह बताया गया है कि कई मरीज अस्पतालों में पहुंचे लेकिन दुर्भाग्य से बिस्तर नहीं मिला, कई लोगों ने परिस्थितियों के आगे घुटने टेक दिए ।
यह सुझाव दिया जाता है कि कोरोना के प्राथमिक मामलो में बिस्तरो की जरूरत नहीं है वे जरूरतमंदों के लिए उपलब्ध हो सकते है । कई लोगों का इलाज घर पर ही किया जा सकता है, घर पर उपचार प्राप्त करते समय व्यक्ति को उचित उपचार के लिए उचित मार्गदर्शन प्राप्त करने की आवश्यकता होती है। कई डॉक्टर उदारता से कई कोविड १९ रोगियों को स्थिति से बाहर आने में मदद कर रहे हैं ।
यदि कोई व्यक्ति COVID या उसके किसी कोरोना के संदिग्ध लक्षण से संक्रमित होता है। वे निम्नलिखित में से किसी भी डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं

 Dr. Harsha Ahire (HOMEOPATH) 
 NASHIK
 8am-10am
 Contact -9518568322
 
 Dr. Mohan Ahire (HOMEOPATH)
 NASHIK
 9am-11am.
 Contact - 959577302
 
 Dr. Monali Wankhede BAMS,(Ayurvedacharya)
 Nagpur
 morning 9-10 am
 Evening 7 to 9 pm.
 Contact -9960561290          
 
 Dr. Snehal Sonule (Ayurveda medicine  Panvel )
 Navi Mumbai
 Morning 10.30 to 11.30 am 
 & Eve 4 pm to 6 pm
 Contact - 8591378258 
 Dr. Kalyani Ghodeswar  MBBS, MD PHYSIOLOGY. 
 Time- 11am to 1pm
 Contact -  9890963773
 
 Dr Anli Kumar Mune (MBBS  ( Pune)  )
 Time  11am to 1pm
 Contact - 9922501347
 
 Dr  Manda Mune (Dh karunaprabha) BAMS (Pune) 
 Time 11am to 1pm
 98606 47334
 
 Dr. Neeta Labhane (Homeopath an Reiki master )
 Aurangabad
 11am to 5pm
 Contact - 9527748737 /  9527638545                     
 
 Dr. Baban Dolas (EYE SURGEON)
 PUNE
 12:00 p.m. - 02:00 p.m.
 Contact - 9422027038 
 
 Dr Priyanka Lokhande (MD)
 MUMBAI
 12:00 p.m. - 02:00 p.m.
 Contact -9821461229
 
 Dr Vivek Vairagade  (Ayurvedacharya ( BAMS)
 NAGPUR
 Time 12 to 2 pm
 Contact -8308833720
 
 Dr Abhishek Wasnik (MD-HOMEOPATH)
 NAGPUR 
 02:00 p.m. - 03:00 p.m. 
 Contact -9766137825
 
 Dr. Avinash Bansode (Vajrahriday) MBBS, PG Dip. in MBCT, UK
 Mon to Fri: 2.30pm to 5.30pm India time
 Whatsapp: +44 7886314954
 
 Dr. Kavita Meshram (HOMEOPATH) 
 AMARAVATI
 03:00 p.m. - 05:00 p.m.
 Contact -9604072131
 
 Dr Gokuldas Ahire  (ENT SURGEN) 
 Mumbai 
 Time -3.30pm -4.30pm
 Contact -9822371632
 
 Dr. Rakshita (HOMEOPATH)
 BHANDARA
 04:00 p.m. - 06:00 p.m.
 Contact - 8999750366
 
 Dr. Manik Ahire (Dental Surgeon)
 MUMBAI
 Time : - 4 pm to 5 pm 
 Contact - 9822148944
 
 Dr. Dhirendra Gaikwad (Daibatelogist)
 MUMBAI
 Time : - 4 pm to 6 pm 
 Contact - 9320008808
 Dr. Sandhya Nagdive (MD-AYURVED)
 NAGPUR
 04:00 p.m. - 06:00 p.m.
 Contact -7093901261
 
 Dr. Ajay Meshram (DENTIST)
 AMARAVATI 
 04:00 p.m. - 06:00 p.m.
 Contact -9890526048
 
 Dr.  Waman KALE (MD, MEDICINE)
 NAGPUR
 05:00 p.m. - 07:00 p.m.
 Contact -9422104000
 
 Dr. Indubhushan Raut / Dh Ashvaghosh (AYURVEDA)
 NAGPUR
 05:00 p.m. - 07:00 p.m. (Mon to Sat)
 Contact -9767907719 / 9404425747 
 
 Dr. Sujata Gaikwad / DH Taranvita (DENTIST)
 MUMBAI
 06:00 p.m. - 08:00 p.m.
 Contact - 8080027564
 
 Dr. Savita (HOMEOPATH)
 PANVEL
 06:00 p.m. - 08:00 p.m.
 Contact - 8879935808
 
 Dr. Manish Shende (HOMEOPATH)
 BHANDARA
 06:00 p.m. - 08:00 p.m.
 Contact -7038835553
 
 Dr. Manish (MD-Anaesthesia)
 AMARAVATI
 06:00 p.m. - 08:00 p.m.
 Contact -7066240798
 
 Dr. Praful Lokhande (MD-MEDICINE)
 MUMBAI
 07:00 p.m. - 09:00 p.m.
 Contact -9821074707
 
 Dr. Yogita Gaikwad (MD-HOMEOPATH)
 MUMBAI
 08:00 p.m. - 10:00 p.m.
 Contact - 9892282764
 
 Dr. Nandedkar RP (MEDICINE) 
 PUNE
 08:00 p.m. - 10:00 p.m.
 Contact - 8999045271
 
 Dr. Takshashila (MD-HOMEOPATH)
 NAGPUR
 08:00 p.m. - 10:00 p.m
 Contact -9860277348
       
 Dr.Bhawana Sonawane (MD RADIOLOGY)                 
 Nagpur
 07:00 p.m.to 8:00 p.m         
 Contact -942103608
Dr Mrs Madhu Manwatkar. (MBBS DGO.Y)                 
Bhusaval
Contact -+91 96047 94555
Dr Rajesh Manwatkar (MD Medicine)
Bhusaval)
Contact -+919422780520 
Dr Priyadarshi  MBBS
(Amravati)
Contact -+91 87889 15752
Dr Shweta Thool ( BHMS )
Ratnagiri 
Contact -+91 81498 23876
WEARING A FACE MASK SANITIZER YOUR HAND 
 
These doctors are requested to offer the services to our SANGHA community and their families.
~ Amrutasiddhi.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    COVID RELIEF AID PROJECT

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    15-05-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By DH ARYKETU Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Aryloka Eudation Society ,Nagpur

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    your life Now On Our Wheel


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Death of Anagarik Asangachitta

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    13-05-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center - Order

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय संघ भाई और बहनों

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हमे बताते हुए दुःख हो रहा है, धम्मचारी अनागारिक असंगचित्त इनका आज सुबह ४.०० बजे निधन हो गया है , वे ९३ साल के थे | वे कुछ दिन से कोरोना संक्रमण से बीमार चल रहे थे | उनकी दीक्षा ७ जनवरी २००१ को भाजे में हुयी थी, धम्मचारी चंद्रशील उनके आचार्य तथा जाहिर दीक्षा धम्मचारी सुदर्शन इन्होंने दी |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचारी असंगचित इन्होने उनके दीक्षा का बाद का बहुत समय सद्धम्म शिविर केंद्र भाजे में बिताया, वे कठिन परिश्रम करने वाले और शिस्तबध्द जिवन जीने वाले व्यक्ति थे | उनके धम्मजीवन के लिए उनकी उम्र कभी बाधा नहीं बनी, धर्म के लिए समर्पित ऐसा जीवन उन्होंने जिया | उनका जीवन डॉ. बाबासाहब आंबेडकर से प्रेरित रहा, बाबासाहब के धम्मप्रवर्तन के समय के वे साक्षी थे, इसी प्रभाव से उन्होंने अपने बच्चो को अच्छी शिक्षा मिले इसके लिए अपना गाँव छोड़कर शहर में आये  | जब वे अपने सांसारिक जिम्मेदारी से मुक्त हुए तब उन्होंने धर्मजीवन जीने के लिए भाजे शिविर केंद्र में आने का निर्णय लिया, और दीक्षा के कुछ साल पश्चात अनागरिक होने का निर्णय लिया | उन्होंने उनके बहुत साल धर्मजीवन जीने के लिए कम्युनिटी में बिताये |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    भाजे शिविर केंद्र में उनके योगदान के लिए वे याद रहेंगे, वयस्क उम्र के बावजूद एक व्यक्ति अपने जीवन में क्या कर सकता है इसके लिए वे हमेशा याद किये जायेंगे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कृपया अपनी अपनी मैत्री बनाए रखे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्रीजाल 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Death of Punyavira

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    11-05-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center - Order

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय संघ भाई और बहनों

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हमें बताते हुए दुःख हो रहा है, धम्मचारी पुण्यवीर इनका आज दोपहर करीबन ३.३० बजे निधन हो गया है | वे ७८ साल के थे | धम्मचारी पुण्यवीर इनकी दीक्षा ५ अक्तूबर २००८ को ह्यू एन त्संग शिविर केंद्र बोरधरण में हुयी थी, धम्मचारी आदित्यबोधी उनके आचार्य तथा जाहिर दीक्षा धम्मचारी चन्द्रशील इन्होने दी |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                     कुछ साल से वे उनके तबियत के वजह से उनको संघ गतिविधियों में सहभागी होना मुश्किल था, वे उनके परिवार के साथ अँधेरी में रहते थे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कृपया उनके लिए अपनी मैत्री रखिये |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्रीजाल 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    बालसंस्कार अभ्यास ध्यान वर्ग

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    06-06-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Abhishek Kamble Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म  बंधू आणि भगिनींनो 
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नमो बुद्धाय जय भीम

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ इंडिया "बालसंस्कार मूलभूत बौद्ध अभ्यास ध्यान आणि चांगल्या

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    सवयी शिकले  जाणाऱ्या वर्गाचे आयोजित करण्यात आलेला आहे तरी उपस्तित रहावे

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हि विनंती 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रत्येक रविवारी सकाळी 10:00 ते सकाळी 11:30 वाजता, ON ZOOM

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Topics :- Learn good habits , Meditation ,Basic Buddhist Studies , and Many More activities

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    contact no :- मनीषा : +91 8805151678 , रुपाली: +91 9356253103

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    या कार्यक्रमात आपल्या  मुलांना या कार्यक्रमात सहभागी करा,
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्म संस्कार ग्रुप मध्ये मुलांना सहभागी करा

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Death of Dhammachari Vinayagarbha

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    08-05-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center - Order

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय संघ भाई और बहनों

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हमें बताते हुए दुःख हो रहा है, धम्मचारी विनयगर्भ नांदेड इनका आज शाम को करीबन ८.०० बजे निधन हो गया है, वे ७२ साल के थे | पिछले १५ दिनों से वे कोविड उपचार के लिए परभनी में अस्पताल में थे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचारी विनयगर्भ इनकी दीक्षा १४ अक्तूबर २०१८ को उर्गेन संघरक्षित ध्यान भावना केंद्र नांदेड में हुयी थी | धम्मचारी चंद्रबोधी उनके आचार्य तथा जाहिर दीक्षा धम्मचारी आदित्यबोधी इन्होने दी | पिछले एक साल से ऑनलाइन चलने वाली धम्म अभ्यास में वे बहुत ही नियमित थे |  इस कोरोना समय में हमने एक हसमुख स्वभाव के संघ सदस्य को खो दिया है |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्रीजाल 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    CHARITY COVID CARE CENTRE

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    05-05-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Dh Tejdarshan Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    THE BUDDHA CHARITY COVIDE CARE CENTRE, NAGALOKA, NAGPUR

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Compassionate response to covid-19
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Serving Covide patient..
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    in need of mild, moderate, and step down care
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Admission criteria: Sp02 more than 92, HRCT Score - less than 10
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Special Feature O
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    24/7 Medical Support             Ambulance
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Oxygen beds available           Experience Doctors and nurses
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Pathology                               Committed and dedicated staff 
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Food Service                          Approved by Nagpur collector
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Contact: 86688 43742, 90492 69786

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Death of Danavajra

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    01-05-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center - Order

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय संघ भाई और बहनों

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हमें बताते हुए दुःख हो रहा धम्मचारी दानवज्र इनका अभी करीबन १२.०० बजे निधन हो गया है, वे ७८ साल के थे | कुछ दिन पहले से उनका कोरोना का इलाज चल रहा था, कल से उनकी तबियत गंभीर बनी हुयी थी |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    दानवज्र के जाने से एक उद्यमी और उच्चत्तम श्रद्धाभाव रखने वाले संघ सदस्य अब हमारे बिच नहीं रहे | उनकी दीक्षा २५ मई २००३ को भाजे में हुयी, जुतिन्धर उनके आचार्य तथा जाहिर दीक्षा चन्द्रशील इन्होने दी |  वे बहुत ही कार्यशील व्यक्ति थे, धम्मजीवन जीने के लिए तथा सिखने के लिए हमेशा लालायित रहते थे, पूजा और ध्यान उनके जीवन का नियमित हिस्सा था | धम्मजीवन की प्राथमिकता उनके कामो के व्यस्तता में बाधा नही बनी |  पिछले साल से ऑनलाइन चल रही गतीविधियों में वे पुरे परिवार के साथ संमेलित रहते थे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    उनके बारे में बहुत कुछ कहाँ जा सकता है, लेकिन हमे इस बात से समाधान लगना चाहिए की वे जीवनभर बुद्ध धम्म और संघ के सानिध्य में रहे और धम्म गहराई से जानने और आचरण करने का प्रयास करते रहे, और हम यह विस्वास रख सकते है की उनका चित्त विधायक और उर्ध्वगामी दिशा के तरफ रहेगा |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आज शाम को  ४.०० बजे उनका अंतिम संस्कार विधि का कार्यक्रम आयोजित किया गया है |  ऑनलाइन कार्यक्रम में जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे |  

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Meeting ID: 846 0909 2342  Passcode: 574930

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्रीजाल 


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    "त्रिरत्न बौद्ध महासंघातील आधुनिक अनाथपिंडक धम्मचारी दानवज्र अमरावती"

                                                                                                                                                                                                                                                                                                     लेखक - धम्मचारी हर्षभद्र, वर्धा. मो. 7620065027 दि. 13/05/2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                              (धम्मचारी दानवज्र यांची संघामध्ये येण्याची सुरुवात वर्धेपासून झाल्यामुळे वर्धेचा व पुलंगावचा इतिहास लक्षात घ्यावा लागेल. तसेच या धम्मप्रवाहात अनेकांचे सहकार्य लाभल्यामुळे त्यांची नावे ओघानेच आली. विशेष म्हणजे या भागातील ज्या धम्मचारीचे निधन झाले त्यांच्याविषयीचा कृतघ्न भाव व्यक्त व्हावा म्हणून त्यांना या लेखात जोडल्या गेले आहे.) 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                               त्रिरत्न बौद्ध महासंघा च्या हितचिंतकाना आता हे कळून चुकले की विदर्भामध्ये ही चळवळ 1984 पर्यंत धम्मचारी संघसेन च्या रूपाने येऊन पोहचली होती. आतापर्यंत हा मान विदर्भातील वर्धेला जरी मिळत होता, परंतु त्याचे पाळेमुळे कुठे रोवल्या गेली त्याचा शोध घेतला गेल्यास त्याचे मूळ अमरावतीच्या दिशेनेच दिसून येते. तरीपण वर्धेचा इतिहास मांडल्याशिवाय दानवज्र यांच्या शरणगमनाची व कार्याची मांडणी करता येत नाही.   

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             धम्मचारी संघसेन यांची धम्मचारी दीक्षा डिसेंबर 1983 मध्ये होऊन लगेचच त्यांचे झंझावाती दौरे विदर्भाच्या भागात सुरू झाले होते. मूळचे संघसेन यवतमाळचे असल्यामुळे त्यांचे वर्धेला नातेसंबंध होते. म्हणून ते वर्धेलाच जास्त येत-जात होते व संघपालित यांचेकडे मुक्कामास राहत असे. 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             वर्धा शहर हे तसे लहानच म्हणावे लागेल, संपूर्ण शहराला सायकलने त्यावेळी अर्ध्या तासात चक्कर मारणे सहज शक्य होत असे. पण वर्धा शहराला फार मोठा वारसा लाभला आहे की ह्या भूमीला गांधीजींचे 1934 -1942 पर्यंत वास्तव्य लाभले. तसेच जमनालाल बजाज व विनोबा भावेचेही वास्तव्य लाभले. याचा चळवळीशी संबंध नसला तरी 1 मे 1936 मध्ये डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर अस्पृश्यांच्या हक्कासाठी गांधीजी सोबत चर्चा करण्यासाठी सेवाग्रामला आले होते. चर्चा जरी निष्फळ ठरली असली तरी बाबासाहेब आल्याचे समजल्यामुळे अस्पृश्य बांधवांनी बाबासाहेबांनी उपदेश करावा म्हणून वस्तीत जुन्या बुद्धमंदीराच्या ठिकाणी घेऊन गेले होते. शोधूनही खुर्ची न सापडल्यामुळे तेथेच दगडावर बसून "स्वछ रहा, शिक्षण घ्या" असा उपदेश केला होता. त्यानंतर भंडाऱ्याच्या निवडणुकी करिता 1954 मध्ये पुलंगावला वाचनालयाचे उद्घाटन व बौद्धविहाराचा शिलान्यास करण्यासाठी आले होते. तसेच धर्मानंद कौसंबी व आनंद कौसल्यायन यांच्या बौद्ध धर्म प्रचारामुळे वर्धा जिल्हा धर्ममार्गावर आरूढ होता. 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रशांत धम्मदीप संघ

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             काश्यप बंधुप्रमाणे या भागात अनेक धम्मप्रचार करणारे गट होते. असाच अमरावतीचा '....संघ' कार्यरत होता. त्याचे नेतृत्व व अध्यक्ष दुर्योधन हे करीत होते. हा संघ बराच नावारूपाला आला होता. अमरावतीच्या भागात तर या संघाने बस्तान बांधले होते. त्याचा 'प्रशांत धम्मदीप संघ' म्हणून चांदुर रेल्वे च्या टेकडीवर स्वतंत्र 'मठ' होता. हा संघ धामणगाव मार्गे नदी ओलांडून पुलंगावला पोहचला होता. त्याचे स्टार प्रचारक संतबोधी रामटेके हे करीत होते. पुलंगाव त्याचे हेड ऑफिस बनले होते. येथून संतबोधी अमरावती व वर्धा काबीज करत होते. वर्धेलाही संघ प्रभावीपणे कार्य करीत होता. पुलंगावहुन वर्धा नदी ओलांडली की अमरावती जिल्हा सुरू होतो. अर्थात त्या जिल्यातील लोकांची ये-जा सहज सुरू राहायची कारण दोन्ही साधने बस व रेल्वे सुविधा सहज उपलब्ध होती. पॅसेंजर रेल्वे तर फार मोठी वरदानच ठरली होती कारण 'कम पैसे में ज्यादा आवाज'.  

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             वर्धेला ठिकठिकाणी संतबोधी वंदनेचे कार्यक्रम राबवत असे. संघसेन असेच त्यांच्या संघाच्या वंदनेत जाऊन बसायचे. लोकांना वाटायचे की हा संघपालित कडील पाहुणा आहे. संतबोधी वंदनेनंतर प्रवचन करायचे. लोकं फार भारावून जायचे. त्यानंतर चर्चा व्हायची त्या चर्चेत लोकं रमून जायचे. संघसेन पण चर्चेत भाग घ्यायचे. संघसेनच्या चर्चेमुळे लोकं पण प्रभावित व्हायचे. अशाप्रकारे तोडीमोडीचे दोन्ही धम्मसेनानी ह्या भागाला मिळाले होते. संतबोधी नसल्यावर संघपालित वर्धेच्या भागात स्वतंत्रपणे नेतृत्व करायचे. संघपालित त्यांच्या संघानुसार आचार्य बनले होते. संघपालित वरही संघसेनचा प्रभाव पडल्यामुळे संघसेनलाच प्रवचन द्यायला सांगायचे. अशाप्रकारे मग संघसेन त्रिरत्न बौद्ध महासंघ काय आहे याची माहिती देऊ लागले. प्रशांत धम्मदीप संघाच्या लोकांना आता एक जागतिक संघ मिळू लागल्यामुळे हळूहळू जोडल्या जाऊ लागले. तसेच त्रिरत्न बौद्ध महासंघाला मोठा ग्रुप हाताशी लागलेला होता. अमरावती जिल्ह्यातील लोकं वर्धेला यायचे व वर्धा-पुलंगावचे लोकं अमरावती च्या भागात जायचे. 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    सोनेगाव खर्ड्याचे धम्मशिबीर

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             डिसेंबर 1984 मध्ये अमरावती च्या धामणगाव तहसील मधील सोनेगाव खर्डा येथे प्रशांत धम्मदीप संघाच्या पुलगावाच्या कार्यकर्त्यांनी तीन दिवशीय धम्मशिबिर आयोजित केले होते. खर्ड्याचे दादारावजी मोडक हे तेथील मुख्य धम्मप्रचारक होते. याचे संपूर्ण संचालन भातकुलीचे धम्मचारी बोधीपाल (दखणे गुरुजी) व धम्मचारी श्रद्धानंद (अंभोरे) करीत होते. तसेच पुलंगावहून खैरकर, मेश्राम, दर्शनाबाई, भागिरतीबाई, नाखले गुरुजी, गुजर, घनमोडे, वाग्दे, चालखुरे इ. परिवार सहभागी झाले होते. गावखेड्यापर्यंत त्याचे लोन पसरल्यामुळे माझा भाऊ महादेवराव लोखंडे हा त्या संघाचा कार्यकर्ता होता. स्वतंत्रपणे आजूबाजूच्या खेड्यावर धार्मिक कार्यक्रमाचे नेतृत्व करायचे. असे प्रत्येक गावाला एक तरी कार्यकर्ता होता, तो त्या संघाशी जुळला होता. गावोगाहूंन लोकं त्या शिबिरात दाखील झाले होते. मी पण सामील झालो होतो.  तळणी, कळशी, सावळा इ. गावून लोकं सहभागी झाले होते. पुढच्या काळात ह्या गावचे लोकनाथ, महास्थाम, पद्मरत्न, आर्यसिद्धी इ. धम्मचारी घडले. खेड्यातील शिबिर होते तरी तरुण पोरं मोठ्या उत्साहाने सामील झाले होते. काही पोरं मिस्किलपने मौज लुटायचे 'श्वास आत गेला बाहेर आला.' संतबोधी व संघसेन त्या शिबिराचे नेतृत्व करीत होते. मी मात्र फार प्रभावित झालो होतो. फारच जबरदस्त वाणीने ते प्रभावित करून टाकायचे.    

                                                                                                                                                                                                                                                                                                              संतबोधीचे नाव धम्मचारी सारखेच वाटायचे, म्हणून धम्मचारीच समजायचो. त्यावेळी या दोघांची सारिपूत्त-मोग्गलायन सारखी जोडी जमली होती. दोघेही त्यांच्या क्षेत्रांत काम करीत होते. बोधीपाल व श्रद्धानंद ही जोडी सुद्धा धामणगाव तहसील च्या भातकुली भागात संघसेनाला सहकार्य करीत असे. त्यांनी त्या भागात अनेक छोटे छोटे शिबिर व कार्यक्रम घेतले. संघसेनच्या संपर्कामुळे पुण्याहून बुद्धयान त्यांच्यापर्यंत पोहचत असे.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    फाळेगावाचे धम्मशिबीर व सरूळचे प्रथम ग्रामीण धम्मकेंद्र

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            धामणगाव तहसील मधून चालनाऱ्या धम्माचे लोन हळूहळू अमरावती पर्यंत पोहचायला लागले व केंद्र बनण्याच्या हालचाली सुरू झाल्या. असे असले तरी यवतमाळला त्रिरत्न बौद्ध महासंघाचे केंद्र निर्मितीसाठी मेंढल्याचे धम्मचारी संघभूषण, मादनीचे संघवज्र (प्रकाश फुलमाळी), फाळेगावचे हर्षप्रिय (वानखेडे), मोहन मोहोड, कोल्लीचे थुलबंधू, उसळगव्हानचे आलोकदर्शी (सुरेश मेश्राम) यवतमाळकडे फिल्डिंग लावून बसले होते. त्यासाठी त्यांनी फाळेगांवला मोठे धम्मशिबीर घेऊन चांगलाच दणका दिला होता. फाळेगाव हे तिन्ही जिल्ह्याच्या बॉण्डरी जवळ सोयीचे होते. त्या शिबिराचे नेतृत्व करण्यासाठी संघसेन व मंजुविर यांनी जोतिपाल यांना आणले होते. त्या शिबिराचे वैशिष्ट्य म्हणजे जोतिपाल यांची भव्यदिव्य मिरवणूक खासरावर (बैलबंडी) काढण्यात आली होती. अमरावती व यवतमाळ यांच्यामध्ये धर्मयुद्ध सुरू झाले होते. अमरावतीचे अनेक लोकं सामील होऊन हे युद्ध काही यवतमाळ वाल्यांना जिंकता आले नाही. कारण मुबलक सैन्यबळ यवतमाळ वाल्यांकडे नव्हते. तरीही त्यांनी हार मानली नाही. ग्रामीण पातळीवर सरूळ येथे केंद्राची निर्मिती करून त्यांनी विक्रम प्रस्थापित केला. ती जागा त्याच गावचे किसनाजी वानखेडेनी यांनी दान दिली होती. अनेक वर्षे तेथे शिबिरे व कार्यक्रम चालले. पुढे तिन्ही जिल्ह्याच्या ठिकाणी केंद्र झाल्यामुळे आज ते केंद्र उपेक्षित झाले आहे. 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    दानवज्र यांचा संघात प्रवेश :

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            अमरावतीकडे संघाने आगेकूच करून भीमपुत्र कॉलनी, बिच्छु टेकडी, फ्रेजरपुरा, इ. अनेक भागात  तसेच अमरावतीच्या बाहेरही बडनेरा, पळसखेड, नांदगाव, इ. गावाला दुर्योधन च्या संघाने संघसेन यांची प्रवचने आयोजित करून हा भाग गाजविला होता. तेथील संघाशी दानवज्र जुळलेले होते. अर्थातच त्यांची ओळख दुर्योधन यांच्यासोबत होती. मंजुविर 1986 मध्ये वर्धेला येऊन पोहोचले होते. वर्धेवरून संघसेन यांनी मंजुविर ला धम्मवर्ग घेण्यासाठी पाठविले. फ्रेझरपुर्याच्या समाजमंदिरात वर्ग मंजुविर यांनी सुरू केला. पण ऐन वेळी अडथळा निर्माण झाला होता. त्या वर्गाला दानवज्र, सुरेश काळे, मनवर इ. हजर होते. दानवज्र  म्हणाले 'असे जर आहे तर माझ्या घरी वर्ग सुरू करा.' त्यानंतर वर्गाची सुरुवात दानवज्र यांच्या घरून झाली. वर्धेला आम्ही धम्मवर्ग सुरू केला असल्याची माहिती त्यांना देण्यात आली. खेड्यातून माणूस पैशाअभावी तो धम्मवर्गास जोडला जाऊ शकत नव्हता. पण दानवज्रना काही कठीण गेले नाही, अमरावतीहुन वर्धेला येणे सहज शक्य होते. ते 1986 मध्ये वर्धेच्या वर्गाला जुळू शकले. कृषक शाळेतील धम्मवर्ग अटेंड करून मुक्काम करायचे व दुसऱ्या दिवशी स्पेशल वर्ग आटोपून अमरावतीला परत जात असे. ह्या वर्गाला नागपूर, यवतमाळ, हिंगणघाट, पुलंगाव व खेड्यापाड्यातूनही लोकं उपस्थित राहण्याचे. त्यांच्या सेवेसाठी शंभरकर, भगत, शेंडे, लभाने परिवार, मधुकर सोनटक्के हे प्रामुख्याने राहायचे. हा विदर्भाचा प्रमुख धम्मवर्ग होता. डोहाळे लागल्याप्रमाणे 'सोमवार' ह्या दिवसाची लोकं वाट पाहत बसायचे. पुण्याहून येणाऱ्या निरनिराळ्या धम्मचारीच्या संपर्कात येऊन दानवज्र फार प्रभावित झाले. त्यांनी एका-एका धम्मचारीला बोलावून अमरावतीला धम्मवर्ग सुरु केले. येणाऱ्या पाहुण्यांची व्यवस्था त्यांच्याकडेच राहायची. ते धन-धान्यांनी सक्षम असल्यामुळे त्यांना काही कठीण गेले नाही. येणाऱ्या धम्मचारीनचा प्रवासाचा खर्च सुध्दा द्यायचे. संघसेन नेहमीच बाहेर दौऱ्यावर राहायचे त्यामुळे धम्मवर्ग घेण्यासाठी वर्धेहून मंजुविर, विमलकीर्ती, जुतींधर तसेच धम्ममित्र अशोक मौर्य वर्धेवरूनच जायचे. हळूहळू मोठ्या कार्यक्रमांची रेलचेल सुरु झाली. त्या कार्यक्रमाचा मोठा खर्च ते स्वतः उचलीत असे. पुढे ऑर्डर डे च्या धम्मचारिनाही भोजनदान द्यायचे. 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    दानशूर रक्षित गुरुजी

                                                                                                                                                                                                                                                                                                           सन 1988 मध्ये भन्ते संघरक्षित यांचे हस्ते वर्धेला वसतिगृहाचे उद्घाटन होते त्यावेळी ते मोठ्या ताफ्यासहीत कार्यक्रमाला हजर राहीले. पुढील काळात वर्धेवरून नवदीक्षित धम्मचारी विवेकप्रिय व विवेकप्रभ यांनी अमरावतीची कमान सांभाळली. ते नियमित धम्मवर्ग घ्यायला जाऊ लागले. अशाप्रकारे त्रिरत्न बौद्ध महासंघाने घट्ट पाय त्यांच्या घरूनच रोवल्या गेले. संघसेन व पुण्याच्या धम्मचारी सोबत दानवज्र यांनी चर्चा करून सामाजिक प्रकल्पाची अर्थात वसतिगृहाची व केंद्राची कल्पना मांडली. परंतु संघाच्या कानून मूळे स्थानिक तीन धम्मचारी असल्याशिवाय केंद्राची व प्रकल्पाची योजना पुढे जाऊ शकत नसल्यामुळे दानवज्र यांची कल्पना हवेतच विरली. तरीपण त्यांनी अव्ह्यातपणे कार्य मात्र सुरूच ठेवले. त्यांची फार मोठी जबाबदारी होती की एकीकडे स्वतः शैक्षणिक प्रकल्प व सहकारी सोसायटी अंतर्गत बँकेची स्थापना व त्याचे संस्थापक. त्यांनी स्थानिक मित्रांच्या मदतीने मैत्रिभाव कायम राखून संघाचेही कार्य करीत होते. सरणबोधी, शांतिजित, ज्ञानरुची, खिराडे, प्रज्ञासागर व इतरांना घेऊन किंवा त्यांच्या पाठीशी उभे राहून सर्वोतोपरी मदत देत होते. त्यामुळे ते संघात ' दानशूर रक्षित गुरुजी ' म्हणून सर्वोतोपरी परिचित झाले होते. 1992 पर्यंत तेथे कुणीही धम्मचारी झाले नव्हते. धम्मचारी संघसेन 'चरथ भिख्खवे' असल्यामुळे नियमितपणे कुठली जबाबदारी घेऊ शकत नव्हते. पुन्हा 1992 मध्ये भन्ते संघरक्षित यांचे आगमन नागपूर व बोरधरण येथे झाले. कुठलाही कार्यक्रम असो दानवज्र (रक्षित गुरुजी) कधी मागे हटले नाही. आपल्या बांधवांना धम्माची चव दाखविण्याकरिता स्वतंत्र वाहनांची व्यवस्था करून घ्यायचे.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    अमरावती केंद्राची स्थापना

                                                                                                                                                                                                                                                                                                              यानंतर मात्र सर्वांचे डोळे अमरावती च्या दिशेने लागले होते. दानवज्र यांच्या प्रयत्नाला यश आले. शेवटी 1993 मध्ये एक मार्ग सापडला. तीन धम्मचारी मिळाल्यामुळे त्यांच्या गोष्टीला दुजोरा मिळू लागला. वसतिगृहाची कल्पना पुढे आली. प्रशिक्षित झालेले नागपूरचे धम्मचारी रत्नसिद्धी व नागभद्र यांनी ही धुरा सांभाळली ते वसतीगृहाचे अधिक्षक बनले. व श्रद्धानंद यांनी भातकुली हुन बदली करून अमरावतीला स्थायिक झाले. फ्रेझरपुर्याच्या पोलीस स्टेशन वरच्या बिल्डिंग मध्ये जागा मिळाली व तेथे मुलांचे वसतीगृह व केंद्र सुरू झाले. त्यांच्या घरून धम्मवर्ग आता शिफ्ट करून धम्मवर्गाची सुरुवात केंद्रातून झाली. थोड्याच अवधीत गुरुवारचा धम्मवर्ग नावारूपाला आला. संपूर्ण अमरावती शहरातून लोकं उपस्थित राहत असल्यामुळे धम्मवर्ग फुल भरून राहायचा. 1995 मध्ये एक प्रवचन देण्याचा  मान मला मिळाला होता.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    दानवज्र यांची धम्मचारी दीक्षा

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             दानवज्र यांनी त्रिरत्न बौद्ध महासंघासाठी आपले जीवनच वाहून टाकले होते. असे असले तरी त्यांनी त्यांच्या संस्थेचा मोठा पसारा निर्माण केला होता. त्यांना दोन्ही जबाबाबदारी सांभाळण्याची मोठी कसरत करावी लागत असे. ते कधीही थकत नसे, त्यांच्यामध्ये प्रचंड उत्साह होता. कधीही त्यांनी बँक बंद ठेवली नाही. ते कर्तबगार व शीलवान होते. मोठ्या संस्थेशी संबंधित अधिकाऱ्यांसोबत संवाद साधण्याचे कसब त्यांना लाभले होते. त्यांच्या शरणगमन प्रक्रियेत याचा कुठे बाधा येऊ नये याची पुरेपूर काळजी ते घेत असे. अनेक कर्मचारी कामावर असल्यामुळे त्यांच्या सोबतचे मैत्रीपूर्ण संबंध, आर्थिक व्यवहार हे त्यांच्या प्रक्रियेस अडथळा न बनता संघाने त्यांची दीक्षा मान्य केली. 25 मे 2003 मध्ये भाजा या शिबिरकेंद्राच्या ठिकाणी जाहीर उपाध्याय चंद्रशील व व्यक्तिगत जुतींधर यांचे हस्ते त्यांची धम्मचारी दीक्षा झाली व त्यांना यथायोग्य नाव मिळाले धम्मचारी दानवज्र. 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                               संघाच्या कार्यक्रमात दानवज्र यांचा संपूर्ण परीवार सुरुवातीपासूनच तन-मन-धनाने सक्रिय सहभागी झाला होता. आज अमरावतीचा संघ मोठा नावारूपाला आला आहे. त्यांच्या कुटुंबात अजून तीन धम्मचारी आहेत. त्यांची पत्नी धम्मचारीनी पद्ममनी, मुलगा धम्मचारी रत्नराज, मुलगी धम्मचारीनी श्रद्धामाला तसेच दुसरी मुलगी आर्टिस्ट असून धम्ममित्र आहे तसेच सून सुद्धा धम्ममित्र आहे. बापलेक, मायलेक असे एकाच कुटुंबातील चार लोकं धम्मचारी असने ही संघासाठी मोठी भूषणावह गोष्ट आहे. 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            अमरावतीच्या त्रिरत्न बौद्ध महासंघाच्या स्थापनेत दानवज्र व परिवाराचा फार मोठा मोलाचा वाटा आहे. आज ते केंद्र मोठे नावारूपाला आले आहे. आजमितीला अमरावती मध्ये जवळपास 60 धम्मचारी असून धम्मचारी मनायु च्या विशेष पुढाकाराने 2011 साली बिहाली येथे निसर्गरम्य ठिकाणी ध्यानसाधना व धम्मशिबीर केंद्र सुरू झाले आहे. दानवज्र धनसंपन्न, वयाने जेष्ठ व अनुभवाने श्रेष्ठ असे धम्मचारी होते. पण त्यांनी कधीही अहंकार बाळगला नाही. ते इतरांचाही मोठा मान-सन्मान करायचे. त्यांच्यापासून वज्जीची शिकवण मिळते की वृद्ध लोकांचा आदर करणे तसेच जे धम्मामध्ये सेवाजेष्ठता आहे त्यांचाही सन्मान करणे. नवदीक्षित धम्मचारी कडून अशी दखल घेतल्या जाईल यात काही शंका नाही.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    दानवज्र यांचे थोडक्यात प्रारंभिक जीवन :

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             धम्मचारी दानवज्र यांचा परिवार सर्वसाधारण कुटुंबातील आहे. त्यांचा जन्म वर्धा जिल्ह्यातील आर्वी तहसिलमध्ये वडगाव (पाडे), धनोडी येथे 1 ऑक्टोबर 1944 ला झालेला आहे. त्यांचा जन्म जरी खेड्यातून झाला असला तरी त्यांना शिक्षणाची आवड प्रथमपासूनच निर्माण झाली होती. त्या काळच्या सुविधेनुसार त्यांनी चवथ्या वर्गाचे शिक्षण पूर्ण केले होते. त्यावेळी चवथ्या वर्गाच्या शिक्षणावर लवकरच 1967 मध्ये प्राथमिक शिक्षकाची नोकरी अमरावती ला मिळाली. त्यांचा शिक्षकी पेशा असल्यामुळे समाज कल्याण व शिक्षण विभागांशी आला. त्यांना शिक्षण क्षेत्रातील आवड अधिकच वाढु लागली. अशातच त्यांचा 26 जून 1968 मध्ये विवाह झाला. पुढे त्यांची सामाजिक तळमळ वाढत गेल्यामुळे समाजातील होतकरु लोकांसाठी रोजगार म्हणून सायकल रिक्षा व्यवसाय सुरू केला. 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                     दानवज्र यांचे शैक्षणिक व सामाजीक कार्य :

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    शैक्षणिक कार्य :

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             ते शिक्षण क्षेत्रात काम करीत असतांना जो समाज शिक्षणापासून पिढ्यानपिढ्या वंचित होता त्यांच्या समाजातील गरीब परिवाराच्या मुलांना शिक्षण मिळण्याकरिता 1जुलै 1985 प्राथमिक  शाळा व 1जुलै 1999 माध्यमिक शाळा उघडली. पुढे त्यांचा संघाशी दाट परिचय झाल्यामुळे धार्मिक कार्यासोबतच 1 जुलै 2017 उर्गेन संघरक्षित इंटरनॅशनल स्कूल ची निर्मिती केली. त्रिरत्न बौद्ध महासंघाच्या इतिहासात पहिल्यांदाच अशा प्रकारच्या शाळेची निर्मिती झाल्याचे उदाहरण पहावयास मिळते. अनेक विद्यार्थी त्यांच्या शाळेतून शिकून पुढे गेले आहे. बौद्ध समाजाच्या सध्या अनेक शिक्षण संस्था आहेत असे असले तरी त्यांनी शाळेचा नावलौकिक अमरावतीमध्ये मिळविला आहे.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    पतसंस्था :

                                                                                                                                                                                                                                                                                                              भारतीय अर्थव्यवस्थेत मोलाची भर घालणारी म्हणजे बँक. बँकेमुळे दररोजच्या चलनक्रियेला गती मिळत असते. बौद्ध समाजातून बँकेचे कार्य फार कमी प्रमाणामध्ये दिसून येते. असे असले तरी मात्र डबघाईस येतांना दिसते. दानवज्र यांनी सामाजिक कार्य करीत असतांना 14 ऑकटोबर 1980 पतसंसंस्थेची स्थापना केली. आजसुद्धा मोठ्या डौलाने डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर शिक्षक व शिक्षेत्तर कर्मचारी पथ संस्थेच्या रूपाने उभी आहे. अनेक कर्मचारी त्यांचेकडे कामाला आहे. अनेक लोकांना त्यांनी रोजगार दिला आहे. अनेकांना ते आर्थिक मदत करीत असतात. संपूर्ण जिल्ह्यात कर्जरूपाने कर्जाचे वाटप करतात व ठेवी स्वीकारतात. जवळपास अंदाजे दोन कोटीचे टर्नओव्हर त्यांच्या बँकेचे आहे.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    निधन :    

                                                                                                                                                                                                                                                                                                              कोरोनाने एक वर्षांपासून भारतभर फार मोठे थैमान घातले होते. कोणता माणूस केव्हा याचा बळी ठरेल याचा नेम राहिला नव्हता. 20 जानेवारीला मी दानवज्र व रत्नराज तसेच सरणबोधी यांची भेट घेतली होती. दानवज्र तंदृस्त व अतिशय उत्साही होते. पण एप्रिल महिन्यात त्यांच्या परिवाराला कोरोना आजाराने घेरलेले होते. दानवज्र व त्यांचा मुलगाही रत्नराज ह्या दोघांनाही ऍडमिट करावे लागले. दोघेही एकाच वार्डात असल्यामुळे ते एकमेकांकडे जणू डुबता सूर्य उगवत्या सूर्याकडे पाहत होता आणि मुलाला संकेत देत होते की तुलाच हा वारसा पुढे न्यायचा आहे. शेवटी त्यांनी वयाच्या 78 व्या वर्षी 1 मे 2021 ला अखेरचा श्वास घेऊन त्यांच्या कार्याचा वारसा धम्मचारी रत्नराज कडे सोपविला. रत्नराज ठिक होऊन घरी परतले. 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                              त्यांच्या धम्मचारी दीक्षेला 18 वर्षे होत आहे. धम्मचारी म्हणून ते सुखी आणि समाधानाने जीवन जगत आले. त्यांच्या परिवासरात सुखाची बाग खुलत होती. संघामध्ये त्यांनी शैक्षणिक व सामाजिक कार्याचा आदर्श घालून दिला आहे. ते दान भावनेमुळे व सामाजिक कार्य रूपाने अमर राहतील. त्यांच्या ह्या धार्मिक व सामाजिक कार्याला नमन आहे. 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्यांना भावपूर्ण श्रद्धांजली!!!

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Death of Khemaprabha

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    28-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center - Order

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय संघ भाई और बहनों

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हमें बताते हुए दुःख हो रहा है, धम्मचारिणी खेमप्रभा का आज दोपहर करीबन ११.०० बजे निधन हो गया है, वे ८९ साल की थी |  वृद्धावस्था के कारण कुछ साल से वे घर पर थी, लेकिन कुछ दिन पहले उन्हें कोविड के वजह से अस्पताल में भर्ती कराया गया था |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचारिणी खेमप्रभा संघ की जेष्ठ सदस्य थी, उनकी दीक्षा १७ जनवरी १९९३ को हुयी, धम्मचारिणी श्रीमाला उनकी व्यक्तिगत और जाहिर उपाध्याय रही | खेममती एक सकारात्मक और प्रसन्न ऐसा व्यक्तिमत्व था,  वृद्धावस्था के बावजूद उनका महाविहार के बड़े कार्यक्रम में उनकी उपस्थिती रहती थी | उन्हें सभी से मिलना और संघचैतन्य को अनुभव करना अच्छा लगता था |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    उनके मृत्यु से एक सकारात्मक, प्रसन्न और अनुभवी व्यक्तिमत्व हमसे निकल गया है |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कृपया उनके लिए  मैत्री कीजिये | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Appointed as a private preceptor

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    27-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center - Order

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आचार्य की नियुक्ति

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय संघ भाई और बहनों

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    जयभीम

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    जाहिर उपाध्याय कुल को यह बताते हुए प्रसन्नता हो रही है कि *धम्मचारिणी ओजोगीता*  इन्होने अपनी व्यक्तिगत उपाध्याय (आचार्य) बनने की प्रक्रिया को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है और उन्हें आचार्य के रूप में नियुक्त किया गया है।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचारिणी सुप्रभा इन्होने संवाददाता (correspondents) के रूप में काम किया और धम्मचारिणी ज्ञानवज्री स्वतंत्र अधिनिर्णायक (Independent Adjudicator) थी।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्री के साथ

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचारी यशोसागर

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    जाहिर उपाध्याय कुल भारत की तरफ से 


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Dear Sangh Brother and Sister

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Namo Buddhaya Jaibhim,

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Indian Public Preceptors are delighted to announce that Dhammacharini Ojogita has completed her consultation process successfully and now appointed as a Privet Preceptor. Dhmmacharini Suprabha was the correspondent and Dhammacharini Jnanavajri was the adjudicator.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Dhammachari Yashosagar from

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Indian Public Preceptor Kula.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Death of Dhammachari Amoghabhadra

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    24-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center - Order

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय संघ भाई और बहनों

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हमें बताते हुए दुःख हो रहा है धम्मचारी अमोघभद्र इनका आज शाम को करीबन ५.०० बजे उम्र के ५१ साल में निधन हो गया है | पिछले १५ दिन से कोरोना से उनका इलाज चल रहा था, कुछ दिन पहले उन्हें इससे राहत भी मिल रही थी, लेकिन दो दिन से फिर से उनकी सेहत ख़राब हो गयी |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचारी अमोघभद्र इनकी दीक्षा २५ मार्च १९९३ को हुयी है, धम्मचारी सुभूति उनके आचार्य तथा सुवज्र उन्हें जाहिर दीक्षा दी | धम्मचारी अमोघभद्र संघ में पूर्णकालीन के रूप में काम किया है, संघ के अनेक प्रकल्प में उन्होंने योगदान दिया | उत्तर भारत में भी उन्होंने कई साल काम किया, कराते प्रशिक्षण के माध्यम से उन्होंने अनेक युवा लोगो को संघ के सम्पर्क में लाया | पिछले कुछ साल से वे अनुवादक का काम कर रहे थे तथा धम्मकी किताबो का प्रकाशन का भी काम कर रहे थे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    खास तौर पिछले साल से चल रही कोरोना महामारी में उन्होंने कोरोना राहत टीम के साथ काम कर अनेक जरूरतमंद लोगो की मदद की | इस तरह से उनका चले जाना बहुत ही दुःख दायी है | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचारी अमोघभद्र इनके श्रद्धांजलि तथा पुण्यानुमोदन  कार्यक्रम  मे सामील होने के लिए यहाँ क्लिक करे | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    समय :- २६  अप्रेल  ६.३० बजे 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Meeting ID: 869 5481 3028 Passcode: 091846

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्रीजाल  

                                                                                                                                                                                                                                                                                                     बाबासाहब डॉ. अंबेडकर के धम्मक्रांती का प्रमुख केंद्र नागपूर रहा है। नागपूर में बाबासाहब ने 14 अकटुबर 1956 में लाखो लोगोंको बौद्ध धर्म की दीक्षा दी है। दीक्षाभूमी की प्रेरणा लेकर संपूर्ण विश्व में बौद्ध अनुयायी बौद्धधर्म का प्रचार प्रसार कर रहे है। शहर की तुलना में नागपूर में बौद्ध धर्म के अनुयायी पर्याप्त मात्र में दिखाई देते है। वे स्वतंत्र रूप से अपने अपने राजकीय, सामाजिक एवं धार्मिक गुटो में कार्य करते है। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                           बाबासाहब सन 1920 से 1956 के काल में दस बार नागपूर प्रदेश में आकर 16 भाषण दिये थे। उसी समय समता सैनिक दल का गठन किया था। प्रत्यक्ष रूप से बाबासाहेब को देखकर लोग बहुत प्रभावित थे। धर्मांतर के बाद समता सैनिक दल का प्रभाव जोरोपर चल रहा था। प्रत्येक कार्यक्रम में समता सैनिक दल सलामी देने के लिए अग्रेसर रहा करता था। भन्ते संघरक्षित का भी नागपूर शहर से पहलेसेही संबंध जुडा हुआ था। वे अ. रा. कुलकर्णी और पिताजी मा. डो. पंचभाई के निमंत्रण पर 1966 में दीक्षाभूमी पर और 1956 में कस्तुरचंद पार्क पर पधारे हुये थे।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    1) अमोघभद्र का त्रिरत्न बौद्ध महासंघ में प्रवेश

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            1985 में समता सैनिक दल (ssd) यह संघटन एक आंदोलन भी बना था। इस संघटन द्वारा बुशिंदो कराटे असोसिएशन स्थापन होकर कराटे क्लास एवं सामाजिक कार्य चलता था। अनेक युवक-युवतीया भी इसके साथ जुडे थे।  संघटन की अपनी नीती बनी हुयी थी। उसके द्वारा अंधश्रद्धा निर्मूलन, व्यसनमुक्ती, आरक्षण बचाव, शिक्षाविकास, खास करके इंग्लिश स्पिकिंग कोर्स, रोजगार निर्मिती आदी सामाजिक कार्य भी चलता था। साथ में पंचशील के तत्व का भी प्रत्यक्ष रूप से आचरण किया जाता था।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कराटे शाखा में प्रवेश

                                                                                                                                                                                                                                                                                                               धिरे-धिरे कराटे क्लास की शाखाये पुरे नागपूर में जगह-जगह फैली थी। इस शाखा का संपूर्ण संचलन धम्मचारी अमोघसिद्धी एवं उनके सहयोगी मित्र करते थे। उनको बडे सन्मान और आदर के साथ "भैय्या" कहते है। जो भी टीचर बनता है, उनको ऐसा कहने की यह परंपरा आजभी टिकी हुयी है। उनका मुख्य सेंटर पाचपावली एस सी एस गर्ल्स हायस्कुल में था। इस कराटे सेंटर के साथ धम्मचारी अमोघभद्र जुडे थे। धम्मचारी अमोघभद्र दयालु सोसायटी, जरीपटका के निवासी है। एक शाखा उनके अपने सोसायटी में सुरू की थी। वे अपनी सायकिल उठाकर नियमित तौरपर कराटे के मुख्य सेंटरपर जाते थे। वहा उनको आंबेडकराईट एवं सामाजिक कार्य हेतू शिक्षा मिलती थी। ऐसा बताया गया की उनके पिताजी प्रत्यक्ष आंदोलन में कुद पडे थे। सामाजिक कार्य की विरासत पिताजी एवं कराटे शाखा से प्राप्त हुआ थी।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ का विदर्भ में प्रवेश

                                                                                                                                                                                                                                                                                                              विदर्भ में प्रचार प्रसार हेतू पूना से धम्मचारी संघसेन, विमलकीर्ती, मंजुविर तथा जुतींधर वर्धा पहूंचे थे। त्रिरत्न बौद्ध महासंघ का मुख्य कार्यालय एवं केंद्र वर्धा में संघपालीत के घर में स्थापित हुआ था। तब मै धम्मसहाय्यक के रूप में सेवा देता था। यहांसे धम्मचारी धम्मप्रचार के लिए नागपूर, अमरावती, यवतमाल के लिए निकल पडते थे। अमोघसिद्धी द्वारा गोपालनगर में चलाये जाने वाली कराटे शाखा के युवक वर्धा हॉस्टेल बिल्डिंग कन्स्ट्रक्शन हेतू इंजि.रुतायुष व ठेकेदार शीलधम्म और कुछ लोग नागपूरसे वर्धा धम्म पढने आते थे। वे धम्मचारी से चर्चा करते थे। इसतरह से नागपूर की कराटे शाखा के युवाओंका जुडाव संघ के साथ धिरे-धिरे बढ गया। कराटे शाखा में युवा जिस तरह से सामाजिक कार्य के प्रति आकर्षित हुये थे, वैसेही धम्मवर्ग की माध्यमसे धार्मिक कार्य के प्रति आकर्षित हुये।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    बौद्ध धर्म की दीक्षा

                                                                                                                                                                                                                                                                                                           खलाशी लाईन में सर्वप्रथम धम्मवर्ग शुरु करने के बाद जहाँ-जहाँ कराटे की शाखाये चलती थी, वहा धम्मवर्ग शुरु हुये। 1987 में समता सैनिक दल के आयोजन में चिंचोली में 50 युवाओंका धम्मशिबीर पहिली बार संपन्न हुआ। बुद्ध के काल में कश्यप बंधुका अपना-अपना संघ था। बुद्ध के धम्मवाणी से  प्रभावित होकर उन्होंने अपना संघ बुद्ध के संघ में विलीन कर दिया था, वैसेही सभी लोग धम्मशिबीर में प्रभावित होकर त्रिरत्न बौद्ध महासंघ में विलीन हो गये थे। उन सब लोगोने  दुसरा बडा धम्मशिबीर 1988 में शिवाजी सभागृह में रखा था। इस धम्मशिबीर की विशेषतः यह रही की इसको 'शादी' शिबीर' भी जाना जाता है। इस धम्मशिबीर में 'धम्मचारी जीवक' की शादी संपन्न हुयी थी। इस शिबीर का दुसरा महत्त्वपूर्ण वैशिष्ट्य यह रहा की धम्मचारी अमोघभद्र के संपूर्ण परीवार भाई-बहन, मातापिता एवं स्वयं अमोघभद्र ने बौद्ध धर्म की दीक्षा ली थी। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                          1988 में त्रिरत्न बौद्ध महासंघ के संस्थापक भन्ते महास्थविर संघरक्षित का आगमन वर्धा के बहुजन हिताय छात्रावास का उदघाटन करने के लिए हुआ था। बुशींदो कराटे क्लास के सभी लडकेने भन्ते का शानदार जोरदार स्वागत करके प्रदर्शन किया था। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता दीक्षाभूमी स्मारक समिती के प्रमुख एवं बिहार के राज्यपाल रहे रा. सु. गवई ने की थी। अनेक गाव से लोग बडी तादात में जुड गये थे। तब तक वर्धा जिले गाव-गाव में धम्मप्रचार पहूंच गया था।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्ममित्र व धम्मचारी दीक्षा

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            तंदुपरांत लगातार अमोघभद्र का संघसंपर्क बढते ही गया। संघ के सभी कार्योमे सहभागी रहते रहे। 1989 में दीक्षाभूमी पर 11 लोगो के साथ धम्ममित्र दीक्षा हुयी।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             धम्मचारी अमोघभद्र की भन्ते के प्रति गहिरी श्रद्धा उत्पन्न हुयी थी। धार्मिक कार्य के प्रति रुची बढ गई थी। वे उत्तर नागपूर से दक्षिण-पश्चिम में चलनेवाले धम्मवर्ग तथा कराटे की शाखा चलाने के लिए मदद करते थे। अंगरेजि सिखना, बोलना, अनुवाद करना तथा किताबे पढना उनका एक शौक बन गया  था। कॉलेज की शिक्षा के साथ बुशिंदो कराटे पढ-पढाकर ब्लॅक बेल्ट की डिग्री हासिल की थी। संघ विकास की प्रक्रिया में भी उन्होंने स्वयं को झोक दिया। तदनंतर विदर्भ का धम्मशिबीर केंद्र बोरधरण निर्माण होने की कगार पर था। जून 1990 को अनागारीक ज्योतिपाल के नेतृत्व में 'छ धातू' पर धम्ममित्र के लिए प्रथम शिबीर का आयोजन किया गया था हम दोनो उस शिबीर में संमिलित थे। उस धम्मशिबीर का प्रथमतः ज्योतिपाल के प्रवचनोंका अमोघभद्र और सचिन ने अनुवाद किया था। तब  हमारी मैत्री की शुरुआत हो गयी थी, तबसे लेकर उनके अंतिम सांस तक चलती रही। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                              हर सप्ताह में संपूर्ण नागपूर के लिए जाईबाई चौधरी हायस्कुल में गुरूवार को धम्मक्लास लगता था। इस क्लास के लिए गुरूवार दिन की लोगोंको राह देखना पडता था; जैसे की वर्धा में सोमवार के दिन की ; इतना लगाव हुआ था। पाश्चात्य धम्मचारी को भी लाकर प्रवचनो की माध्यम से लोगोंको प्रेरित किया जाता था। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                           हयु एन त्संग धम्मशिबीर बोरधरण का स्तूप बनके तैय्यार हुआ था। इस स्तूप के उदघाटन के लिए एवं नागपूर की धम्मक्रांती को गतिमान करने के लिए दुसरी बार जनवरी 1992 को भन्ते का विदर्भ में आगमन  हुआ था। दीक्षित हुये नवागत धम्मचारी इस कार्यक्रम के लिए लगातार दिनरात कष्ट उठा रहे थे। 14 जनवरी को भन्ते के करकमलो द्वारा बोरधरण स्तूप का उदघाटन हुआ था।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    भन्ते संघरक्षित का नागपूर में आगमन एवं धम्मक्रांती

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            इसके उपरांत नागपूर में भव्य तीन प्रवचनोंका आयोजन किया। धर्मांतर की ऐसी लहर पैदा हुयी की संपूर्ण नागपूर शहर  उत्साहित हुआ था, वैसा वातावरण हो गया। जगह जगह  कार्यक्रम के पोष्टर एवं भन्ते के फोटो से नाग नगरी दुल्हन के तरह से सजी हुयी थी। बाभुलखेडा, कस्तुरचंद पार्क एवं महेंद्रनगर के प्रांगण में भन्ते, बाबासाहब तथा बुद्ध के बडे पोस्टर ध्यान आकर्षित करते थे। महिला और पुरुष ने निले पहनावेसे "नीला नीला बुद्ध हमे मिला भीमजी के रूप में" इस गाने की याद करके देता था। "बाबासाहेब करे पुकार बौद्ध धर्म को करो स्वीकार" नारो से आसमंत गुंज उठा था। भन्ते का आगमन नागपूर स्टेशन पर होते ही हजारोंकी संख्या में अनुयायोओं की भीड इकठ्ठा  हुयी। हर व्यक्ती भन्ते का दर्शन करने के लिए उमड पडा था। फुल-मालाओंसे भन्ते का मुखदर्शन नही हो पा रहा था। साथ में आने वाले धम्मचारीने ये कमान सांभाल ली। धम्म से प्रभावित अनुयायी शिस्तप्रिय देखकर पोलिस भी दांतो तले उंगली चबाती रह गई । उनको लगा कोई बडा मंत्री नागपूर में पधार रहा हो। भन्ते को इच्छित स्थली ले जाने के लिए मोटार खडी थी, उसमे बैठकर चल पडे उनके पिछे लोग "वाट चालली मानवतेची...., भन्ते संघरक्षित तुमचे आमचे बंधुत्वाचे नाते...." गाना गाते हुये पिछे-पिछे जा रहे थे। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             भन्ते के तिनो प्रवचन जबरदस्त रहे। कस्तुरचंद पार्क पर जहाँ त्रिरत्न बौद्ध महासंघ पहुच गया था ऐसे अमरावती, वर्धा, यवतमाल से स्पेशल अपने सुविधा से जथ्थे आये थे। भन्ते ने सब बौदधोंको 10 अलंकार का गहिना पहना दिया। सभी कार्यक्रम की शुरुआत "राहो सुखाने हा मानव इथे, हा धम्म हो नवा नवा दुःखावरील ही दवा" इस स्वागत गितोंसे होती थी। अनेक वर्ष तक ये गाने गुंजते रहे।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचारी दीक्षा :

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            1992 में हमारी धम्मचारी की प्रक्रिया साथ साथ चली। सही शरणगमन के तरफ हम बढ रहे थे। साथमेंही आध्यात्मिक कुल महाविहार, दापोडी, पूना में रहते थे। अमोघभद्र महाविहार में भी कराटे प्रशिक्षण वर्ग युवाओंके लिए चलाते थे। वर्षभर 'धम्मचारी प्रक्रिया शिबीर' भाजा में चलता रहा। अंततः 25 मार्च 1993 में हमारी 32 लोगोंके साथ धम्मचारी दीक्षा हुयी। उनके कल्यामित्र अमोघसिद्धी से 'अमोघ' और  भद्र परिवार से 'भद्र' शब्द मिलकर नरेंद्र घाटोळे से वे धम्मचारी अमोघभद्र बने। उनके निजी उपाध्याय सुभूती एवं जाहीर उपाध्याय सुवज्र थे।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    2) अमोघभद्र का त्रिरत्न बौद्ध महासंघ में योगदान

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    उत्तर प्रदेश में धम्मकार्य

                                                                                                                                                                                                                                                                                                              दीक्षा के एक वर्ष बाद नागपूर में अपने कल्याणमित्र के संपर्क में रहकर धम्मप्रचार के लिए उन्होंने अपना मन बना लिया। नये जोश के साथ, नये उम्मीदो के साथ वर्ष 1994 में उत्तर प्रदेश में धम्मप्रचार के लिए वे निकल पडे थे। उत्तर भारत की धम्मक्रांती जैसेकी उनकी राह देख रही थी। उत्तरप्रदेश में धम्मप्रचार के लिए पहले जा पहुचे ऐसे महाराष्ट्र के धम्मचारी चंद्रवीर, अभयराजा, पद्मवीर, मै, आकाशभद्र, विवेकभद्र, विमलभद्र, विवेकधम्म आदी धम्मचारी ने धम्मकार्य की निंव रखी थी। संघ ने अमोघभद्र को हस्तिनापूर के लिए भेजकर  बहुजन हिताय निराश्रित बालसदन छात्रावास की पूर्णकालीन जीमेदारी दे दी। पहलेसेही गुजरात के धम्मचारी विवेकभद्र वही पर थे। दोनो मिलकर उनका अच्छा कार्य चल रहा था। हस्तिनापुर में सामाजिक प्रकल्प में कार्य करते हुए मेरठ, मोदीनगर, आग्रा, गाजियाबाद, दिल्ली, जालंधर जैसे दूर दराज क्षेत्रों में भी धम्म कार्य कार्य करते थे। दोनो बखुबी से इस जीमेदारी को निभाते हुये धम्म का भी काम करते थे। छात्रावास के बच्चोको वे प्यार देते, उनकी पढाई अच्छी होने के लिए ट्युशन क्लास चलाते थे। दो साल बाद संस्था ने  मोदिनगर में छात्रावास शिफ्ट कर दिया। अमोघभद्र मोदिनगर में धम्मकार्य करने साथ-साथ कराटे गुण तो था ही वे कराटे क्लासेस युवक-युवती के लिए चलाते थे। उ.प्र. में लडकी को कराटे के लिए भेजना कठीण था, लेकीन वे विश्वासपात्र बने रहे। उनकी एक शिष्या धम्मचारीनी श्रद्धावजरी कराटे में तो माष्टर बनी थी, साथमें त्रिरत्न बौद्ध महासंघ में भी उपाध्याय बनी। अभी महिलाओंको कल्यांमित्रता देकर संघ में पूर्णकालीन कार्य कर रही। आकाशभद्र, बोधीसागर के साथ संपर्क बनाये रखकर प्रवचन देना,  धम्मवर्ग लेना, धम्मशिबीरे लेना, लोगोंको मिलना, मित्रता देना, समस्या को छुडाना आदी धम्मकार्य में हर दिन वे व्यस्त रहते थे। मात्र वे स्वयं को समय देने के लिए नही चुकते थे। स्वयं की साधना व्हाईट तारा, कराटे प्रॅक्टिस, पढाई एवं लिखना शुरुही रहता था। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मप्रचारक

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             धम्मप्रचार की विरासत धम्मचारी संघसेन द्वारा प्राप्त हुयी है। संघसेन ने महाराष्ट्र ढुंढ निकाला था वैसे अमोघभद्र उत्तर भारत जा पंहुचे थे। मोदिनगर से चारो और जाते थे। पंजाब में कार्य शुरु हुआ था। नागपूर से भी अपना संपर्क बराबर बनाया रखा था। लोगोंकी मांग पर पंजाब जाने का तय था, लोकडवून के कारण जा नहीं पाये। लेकीन पूर्व की और छत्तीसगड में निकल पडे थे। रायपूर का धम्मशिबीर लेकर नागपूर लौटे थे। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    3) अमोघभद्र का सामाजिक, शिक्षा व लेखन साहित्य में योगदान

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    सामाजिक कार्य

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            समता सैनिक दल से युवा बुशिंदो कराटे असोसिएशन में परिवर्तित हुये। उसके द्वारा सामाजिक कार्य भी चलता था। नागपूर की झोपडपट्टी एवं महेंद्रनगर की खुली जगह में रहनेवाले बंजारा समाज के लोगो में जाकर शिक्षा का महत्व समझाना, बच्चो का स्कुल में प्रवेश करवाना, लोगोंको अंधश्रद्धा से बाहर निकालना आदि कार्य करते थे। कराटे क्लासेस के लिए या समाज में जाकर शिक्षा का महत्व बताने के लिए कुछ मानधन नही मिलता था। अमोघसिद्धी किसी को मानधन नही देते थे ना लेते थे। निस्वार्थ सेवा चल रही थी। वे कार्य करते ही रहे। अभितक ये कार्य जारी रखा था। समाज जागृतीके लिए वे सदा तत्पर रहते थे।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             बुद्धिझम में सुंदर एवं सर्वश्रेष्ठ शब्द 'करूणा और पॉझिटिव्ह' इस शब्द का भय उत्पन्न करने के लिए सरकार कोशीष में है। समय, कौशल्य, विचार, धन का उपयोग लोगोंके लिए कैसा हो इसका सुयोग्य नियोजन अमोघभद्र करते थे। कोरोना काल की विपरीत स्थिती में भी 'करूणा रिलीफ फंड' द्वारा 'पीपल टू पीपल' गरीब परीवार तक अनाज की किट्स बाटनेमे मददगार रहे।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    शिक्षा कार्य :

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            अमोघभद्र की खुद की अपनी दृष्टी थी। वे खुद अपना चिंतन करने की क्षमता रखते थे। वे अच्छे टीचर थे। शिक्षा यह एक ऐसा दान है की उससे आजीविका, नैतिकता एवं सामाजिक दायित्व का निर्माण होता है, यह कार्य बखुबीसे निभाते थे। आखरी तक उनका बच्चो की ट्यूशन शुरुही थी कराटेक्लास, धम्मक्लास एवं युवा सेमिनार की माध्यमसे भी ज्ञान बाटते रहते थे। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    अमोघभद्र का लेखन साहित्य में योगदान

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    अनुवादक, लेखक और प्रकाशक :

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            अमोघभद्र एक अच्छे अनुवादक के रूप में जाने जाते। अचल तथा पाश्चात्य धम्मचारी का अनुवाद करने के लिए महाराष्ट्र के अनेक शहरो में वे गये। उत्तर प्रदेश में भी कई बार चले गये। इससे उनकी आंतरराष्ट्रीय पहचान बनी। मुझे एमफील प्रबंध में हिंदी शब्द के लिए हमेशा मदद करते थे। उनकी तिनो भाषा (हिंदी, अंगरेजि एवं मराठी) पर अच्छी कमांड थी। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                              अमोघभद्र अच्छे लेखक करके उभरे हुये थे। भन्ते के अनेक पुस्तकोंका अनुवाद किया है। भन्ते के साथ सिधा संपर्क था, भन्ते साहित्य प्रकाशन के लिए प्रोत्साहित करते थे। इंग्लंड से प्रकाशित होनेवाली मॅगझीन 'धम्ममेघा' का अच्छा हिंदी में अनुवाद करके छोटी छोटी पुस्तिका प्रकाशित की। उनको मालूम था की भन्ते की शिक्षा जन सामान्य लोगोतक पहुचाने के लिए कम किंमत वाली पुस्तके निकाली जाय ताकी लोग आसानी से खरीद सके। मराठी में तो अनेक किताबे थी, जिससे प्यार करते ऐसे यु पी के लिए 'हिंदी' साहित्य निकालकर स्वयं बेचते थे। स्वयं निर्भर बनने भी उनकी कोशीष रही। कभी कभी प्रकाशन करने के लिए कठीनाई आती ऐसे समय में मै 'अधिष्ठान प्रकाशन' के मार्फ़त पुस्तक प्रकाशित करना और विक्री के लिए भी मदद करता था।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    4) पुण्यानुमोदन एवं उपसंहार

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    अमोघभद्र के अनेक गुणों के अनेक पैलू देखे जा सकते है।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्याग

                                                                                                                                                                                                                                                                                                           अमोघभद्र त्यागी धम्मचारी थे। पारिवारिक समस्या रुकावट न बनते हुये वे निरंतर धम्मकार्य के लिए अग्रेसर रहें। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    स्पष्टवक्ता

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             धम्मकार्य के प्रति वे सुस्पष्ट थे। कोई भी विषयपर वे आसानिसे बोल लेते थे।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    दानभावना और संयम

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             आर्थिकता से वे कमजोर थे लेकीन कभी किसीं के सामने हाथ नही फैलाये। वे दुसरोको देने के लिए आगे आते थे। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                           1992 की बात है, जब भन्ते नागपूर में पधारे थे तब दान इकठ्ठा करने की मोहीम तेज गती से चल रही थी। ग्रुपमें जाने का नियोजन था, लेकीन कभी कभार वे अकेले भी निकल पडते। ऐसेही एक बार दोपहर एक घर जाकर दरवाजा खटखटाया एकदम से आदमी शस्त्र हाथ में लेकर बाहर आया। अमोघभद्र ने संयम रखके कुछ न बोलते हुये वे निकल पडे। कराटे का अहं कभी दिखाया नही। ज्यादा तर कराटे वाले लोगोंकी पहचान ऐसी बनी की उनका शरीर हिलते रहना और शेख्यान्ड करते समय जोर से हाथ दबाना। लेकीन अमोघभद्र अपवाद रहे।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    शीलसंपन्न

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             अमोघभद्र 'शील पारमिता' के धनी थे। हमेशा के लिए उन्होंने 'दसशील' अपने जीवन का हिस्सा बनाया था बाबासाहब कहते थे, की "मेरे तरफ कोई अंगुलीनिर्देश नहीं कर सकते।" इसी तत्वपर आरूढ रहे।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मृत्यू को बेदखल

                                                                                                                                                                                                                                                                                                               पारिवारिक दुःख उनके आसपास काले बादल के समान मंडराते रहे, लेकीन उनके भीतर प्रवेश होने नहीं दिया। उन्होंने परिवार में लगातार मृत्यू देखे थे। पहले भाई, कुछ साल बाद पिताजी, बादमे बहन और पिछले साल माँ गुजर चुकी। इतना दुःख सहकर और मृत्यू को बेदखल करते हुये कभी धम्म से विचलित नही हुये।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मातापिता की सेवा

                                                                                                                                                                                                                                                                                                           कुछ साल पहले पिताजी उमर के ढलान पर थे। उनकी अच्छी सेवा की थी। चार साल से बिमार पडी माँ की भी सेवा करके पुण्य प्राप्त किया था।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    रीडर

                                                                                                                                                                                                                                                                                                               पढाई की विरासत उनके महागुरू अमोघसिद्धी से मिली। जब मै नागलोक की लायब्ररी में लायब्ररीयन था तब देखा की सबसे ज्यादा किताबोकी मांग अमोघसिद्धी की रहती थी, वैसे अमोघभद्र हमेशा पढते थे। प्रवचन में 'किताबका रेफरन्स देकर बात करते थे।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    शिक्षक एवं मार्गदर्शक: 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                           झुग्गी-झोपडपट्टी से लेकर धम्मशिबीर में आनेवाले विद्वजनो तक पढाने का काम बखुबीसे अमोघभद्र ने निभाया। नागपूर ने कराटे की अनेक शाखाये बढती गयी। उनका संघटन करके मार्गदर्शन करते थे। उनके मित्र जो संघ में पंहुच नही पाये ऐसे मित्र के वे मागदर्शक कर रूप में बने रहे।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    ध्यान मास्टर :

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            बोधानंद, सत्यराजा एवं चंद्रबोधी द्वारा वर्षभर चलने वाला  'ध्यान माष्टर प्रशिक्षण शिबिर' हमने नियमित तौरपर उपस्थित रहकर कोर्स को पुरा कर लिया। इसका अनुभव अमोघभद्र के साथ था। स्पेशल क्लास चलाकर एवं अनेक शिबिरोमें वे अच्छी तरह से ध्यान पढाते थे।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कराटे माष्टर :

                                                                                                                                                                                                                                                                                                           अमोघभद्र जब 16 साल के थे तबसेही अमोघसिद्धी द्वारा पाचपावली में चलनेवाला कराटे क्लास का प्रशिक्षणार्थी बना था। धिरे धिरे ब्लॅक बेल्ट तक अपना प्रशिक्षण पुरा कर लिया। उनके बस्ती में एक शाखा खोलकर उसका स्वयं नेतृत्व करते थे। शाखा टीचर जब धम्मशिबीर या विशेष दौरेपर जाते तब वे वहा पढाते थे। आगे की पढाई के लिए इंग्लंड के धम्मविर, और विमलबोधी मार्शल आर्ट पढाने के लिए आते थे। नागपूर, पूना, मोदिनगर, आग्रा में कराटे पढाये।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मित्रता एवं कल्याणमित्रता

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            कराटे की माध्यम से मिले हुये गुरू तो थे ही लेकीन धम्ममार्ग पर आरूढ करनेवाले ऐसे आध्यात्मिक गुरू आखरीतक धम्मचारी अमोघसिद्धी मीले। बडा आदर सन्मान वे करते थे। भन्ते ने दी हुयी शिक्षा "गुरूओंके प्रती प्रामाणिक रहकर मैं शरणगमन करता हूं" इससे वे अधिक प्रभावित रहे। दीक्षा के समय भी उनको उंची भावना एवं मैत्री रखनेवाले दुसरे कल्याणमित्र मिले थे धम्मचारी अमृतदीप। अभी वे नागपूर में स्थित है।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                             छोटे- बडों के साथ मित्रता देते भी थे, लेते भी थे। उनके कराटे शाखा एवं ट्युशन में आनेवाले छोटे लडके दोस्त बन जाते थे। उनको उतनाही प्यार एवं कहाणी के माध्यम से धम्म बताते थे। यु पी में रहते वक्त अनेक उनके मित्र बने हुये थे। लखनौ के प्रसिद्ध व्यक्तित्व एवं स्पिरीचिअल पत्रिका 'धम्ममार्ग' के संपादक राजेश चंद्रा के साथ अच्छी मित्रता बरकरार रखके उनको जीएफआर तक पंहुचाया। कराटे शाखा का मित्र सचिनकुमार उनके सुख-दुःख में आखरी तक उनके साथ  रहता था। सामाजिक स्तर पर कार्य करने वाले सभी नये-पुराने मित्रोके साथ मित्रता जारी रखी। जगह-जगह उनके मित्र फैले हुये है।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    संपर्क :

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            संपर्क ये भी एक उत्तम कला है। एक दुसरेके अंतःकरण में प्रवेश करना, दुसरोंकी बाते समझ लेना बडा कौशल्य होता है। अमोघभद्र आसानिसे संपर्क कर लेते थे।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    अमोघभद्र का संघ में बहुत चाहता वर्ग है। अनेक कराटे के मित्र है, अनेक धम्ममित्र एवं धम्मचारी बने। अमोघभद्र विर्यवान और निस्वार्थ भाव से काम करते थे। उत्तर प्रदेश, पंजाब, दिल्ली, डेहराडून, रायपूर में कार्य करना चाहते थे। भन्ते का साहित्य लोगों तक पंहुचना चाहीये ऐसी इच्छा रखते थे। हिंदी पब्लिकेशन तथा हिंदी बुद्धयान में काम करके निरंतर शुरु रखने के लिए प्रयासरत थे। अनेक विषय उनके सामने थे, ये सब कार्य अधुरे रहे।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                           उनके परिवार में अभी 21 साल का लडका है। वह काम ढुंढने के लिए पूना चला गया। बडी उम्मीद थी, की उनको ऐसे आर्थिक कमजोर स्थिती में आधार बनकर अपनी कल्पनाओंको मूर्त रूप देगा।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            समाज उत्थान के लिए जो भी व्यक्ती कार्य करता है ऐसे आर्थीक कमजोर लोगों मदत करना यह सर्वोत्तम 'करूणा' कार्य है। अनेक सामाजिक संस्था मात्र नैसर्गिक आपत्ती आने की राह देखकर समाज में करूणा ढुंढमें मशगुल बन जाती/दौड लगाकर अपनी पीठ थपथपाती।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            बुद्ध कहते है,  "यह शरीर नाशवंत है, एक ना एक दिन छोडना पडेगा"  मृत्यू जैसे की राह ही देख रहा हो, सब कुछ अच्छा चलते थोडे बिमार पडे। ऐसा लग रहा था की इससे सुधर जायेंगे। लेकीन क्या पता की, एक साल से कहर करनेवाला कोरोना बली बनायेगा। उनको आर्यकेतू ने मेयो मे भर्ती किया, उनके भाई तथा दोस्तोने लगातार मदद जारी रखी। व्यक्तीगत तौरपर मेरी अच्छी मित्रता अंतिम सांस तक बनी रही, उनके सुख-दुःख दर्द में पुरी तरह से सामील था। पुरा विश्वास था की वे बाहेर आऍंगे। मै हर घडी खबर लेते रहता था। आयसीयू से बाहर आकर जनरल में शिफ्ट कर दिया। तबियत सुधारणे की कगार पर थी, लेकीन सिने में दर्द होनेसे फिरसे आयसीयू में दाखिल किया और खबर आयी की डॉक्टर ने मृत घोषित किया। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    ‌       कोरोना काल में त्रिरत्न बौद्ध महासंघ के अनेक रत्न को हमने खोया है। पिछले सप्ताह में हर दिन खबर मिलती रही की, किसीं एक धम्मचारी का कोरोना से मृत्यू हुआ। लेकीन खबर सूनते-सूनते हद हो गयी की एक दिन में तीन धम्मचारी की मृत्यू। उसमे अमोघभद्र जैसे रत्न को भी हमने खो दिया।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            सदा वे नम्र, शांत, उत्साही, मिलनसार, तत्वज्ञान रखनेवाले, सामाजिक समस्या की जागृती रखनेवाले, आचरण के कसौटी पर खरे उतरनेवाले, कराटे माष्टर, ध्यानमास्टर, धम्मप्रचारक, उत्तम अनुवादक, लेखक, प्रकाशक धम्मचारी अमोघभद्र उमर् के 51 वर्ष में 24 अप्रेल 2021 को त्रिरत्न बौद्ध महासंघ से कम हुये। उनका चित्त उर्ध्वगती धारण करने के लिए उनको भावपूर्ण श्रद्धांजली!!!

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Death of Shilavajra

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    24-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center - Order

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय संघ भाई और बहनों

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हमें बताते हुए दुःख हो रहा है, *धम्मचारी शीलवज्र* इनका आज दोपहर १.०० बजे रामा हॉस्पिटल कल्यानपुर, कानपुर में निधन हो गया,वह पिछले तीन दिन से वेंटिलेटर पर थे।उनका अंतिम संस्कार शाम को ५.३० बजे उनके "दीवाना ऋषि" सेंगुर नदी घाट, कानपुर देहात से होगा |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचारी शीलवज्र इनकी दीक्षा १७ दिसंबर २०१७ को बोरधरण शिविर केंद्र में हुयी, धम्मचारी रत्नसिद्धी उनके आचार्य थे तथा जाहिर दीक्षा धम्मचारी अमृतदीप इन्होने दी | वो बहुत ही विनयशील और सरल स्वभाव के थे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कृपया उनके लिए अपनी मैत्री बनाए रखे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    उनके अंतिम संस्कार विधि में जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Meeting ID: 846 0909 2342 Passcode: 574930

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्रीजाल 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    केंद्र के निर्माण में

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    24-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Ravikar Ramteke Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म भाइयों और बहनों
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नमो बुद्धाय, जयभीम

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ (केंद्र दक्षिण-पश्चिम) नागपुर सभीको  जयभीम। त्रिरत्न बौद्ध संघ केंद्र दक्षिण पश्चिम हम सभी से अपील करता है कि केंद्र के लिए नए भवन के निर्माण के लिए स्वतंत्र रूप से दान करें।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मुक्त हस्ते दान करें l

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    A / C No : 60293395711
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    IFSC : MAHB0000951 MICR : 44001407
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    A / C Name : Trilokya Bouddha Mahasangha Sahayak
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Bank Name : Bank OF Maharashtra Bhagwan Nagar Nagpur

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    You can contact us on : 9822701948,9822708539,7620629787

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Death of Jnanaghosh

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    24-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center - Order

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय संघ भाई और बहनों

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हमें बताते हुए दुःख हो रहा है, धम्मचारी ज्ञानघोष इनका कल शाम करीबन १०.४५ को निधन हो गया है | वे ३८ साल के थे, उनका इतने युवा अवस्था गुजर जाना अनअपेक्षित तथा दुःखदायी है  |  उनके पीछे उनके परिवार में ३ साल की लड़की  और उनकी पत्नी है | टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ़ सोशल सायंस से M.S.W. कीया और अभी फ़िलहाल वे दलित युवको का राजकारण में सहभाग इस विषय पर पि.एच.डी.कर रहे थे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    वे २००२ में संघ के सम्पर्क में आये, नागार्जुन प्रशिक्षण केंद नागलोक के एक साल के प्रशिक्षण से उनका धम्मका रुझान बढ़ गया और उन्होंने अपना दीक्षा प्रक्रिया का प्रशिक्षण पूरा किया और उनकी दीक्षा ५ मई २०१९ को भाजे में हुयी, धम्मचारी जुतिन्धर उनके आचार्य तथा यशोसागर उनके जाहिर उपाध्याय थे | दीक्षा के समय उन्होंने शाक्यमुनि साधना ली थी |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    रविवार दिनाक २५ अप्रैल  शाम को ७.००  पूजा और पुण्यानुमोदन का कार्यक्रम आयोजन किया है |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कृपया कार्यक्रम में जुड़ने के लिए यहाँक्लिक करे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Meeting ID: 846 0909 2342 Passcode: 574930

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्रीजाल 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कोविड प्रतिबंधक उपाय और उपचार मार्गदर्शन

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    22-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय भाई और बहनों
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नमो बुद्धाय जयभीम

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हम सब इस कोरोना के कठिन परिस्थिती से गुजर रहे है और निश्चित हमें विश्वास है कि, हर परिस्थिती मे बुद्ध कि शिक्षा मदतगार और लाभ देने वाली है इस परिस्थिती में भाष्य करने  के लिये त्रिरत्न बौद्ध महासंघ के वरिष्ठ धम्मचारी सुभूती धम्मोपदेशना करेंगे |  आपसे अनुरोध है की आप स्वयंआपका परिवार तथा स्नेही और मित्रो के साथ इसका लाभ ले |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    शुक्रवार  दिनांक २३ अप्रेल २०२१ शाम को ७.०० बजे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    इस झूम पर  प्रवचन में सामिल होने के लिए यहाँ क्लिक करे तथा अपने यु ट्यूब चैनल पर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे  |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Meeting ID: 846 0909 2342

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हम सब इस कोरोना के कठिन परिस्थिती से गुजर रहे है, इस परिस्थिती में भाष्य करने  के लिये रोगविषयक और मनोवैज्ञानिक द्वारा ऑनलाइन समुपदेशन करेंगे - चेतन मेश्राम और डॉ . तक्षशिला मेश्राम समुपदेशन  करेंगे |  आपसे अनुरोध है की आप स्वयंआपका परिवार तथा स्नेही और मित्रो के साथ इसका लाभ ले |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    रविवार  दिनांक 25 अप्रेल 2021 दोपहर 3:00 से 5:00 बजे तक |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    साथीयो 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हमे खेद है  दोपहर 3 बजे नियोजित यह ऑनलाईन कार्यक्रम किसीं कारणवष Postpone कर रहे है.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हमारे साथ बने रहे,आप और आपका परिवार सुरक्षित रहे.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धन्यवाद...

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कोरोना रिलीफ टीम 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नोटिफिकेशन पाने के लिए गूगल प्ले स्टोर से Triratnaindia यह एप डाउनलोड कीजिये या

                                                                                                                                                                                                                                                                                                     https://www.triratnaindia.in  इस वेबसाईट पर अपना नाम रजिस्टर कीजिए और सभीको यहाँ जुड़ने की publicity करें।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्म युवा संस्कार ग्रुप

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    18-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Ramesh Gujar Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म  बंधू आणि भगिनींनो 
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नमो बुद्धाय जय भीम
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    http://meet.google.com/eri-rcnk-pdz
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    अचलभुमि धम्मप्रशिक्षण केंद्र, बिहली तर्फे ''धम्म युवा संस्कार ग्रुप''चा वर्ग आयोजित करण्यात
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आलेला आहे तरी आपल्या ग्रुप च्या सर्व धम्मसहायक, धम्मबांधव यांनी उपस्तित रहावे हि विनंती
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    तारीख -18/04/2021
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    वेळ - सकाळी 11:00 ते 12:00
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    सर्व धम्म युवांनी वेळेच्या 5 मिनिटे अगोदर जॉईन करावे..........
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    या कार्यक्रमात आपल्या पंधरा ते तीस वर्ष वयाच्या मुलांना या कार्यक्रमात सहभागी करा,
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्म युवा संस्कार ग्रुप मध्ये मुलांना सहभागी करा
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचारी विवेकचित्त

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Death of Dhammachari Achalachitta

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    17-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center - Order

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय संघ भाई और बहनों

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हमें बताते हुए दुःख हो रहा है, धम्मचारी अचलचित्त (यवतमाल) इनका करीबन १२.०० बजे निधन हो गया है | जैसे हम जानते है कुछ दिनों से वे कोरोना के वजह से यवतमाल में सरकारी अस्पताल में वेंटिलेटर पर थे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    उनका उम्र के ४९ साल में हम में से निकल जाना बहुत ही दुखद बात है, वे बहुत ही मिलनसार, और बुद्ध धम्म और संघ के लिए समर्पित व्यक्तिमत्व था | धम्म को सिखने के लिए अत्यंत कठिन परिस्थिती में प्रयास करते थे | जब एक महीने पहले उनसे मिला तब वे अपने नोकरी से ऐच्छिक सेवानिवृत्ति लेकर धम्म सिखने तथा प्रचार करने में अपने जीवन व्यतीत करना चाहते थे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    इस तरह से उनका अचानक जाना अत्यंत व्यथित करने वाला है |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कृपया उनके लिए मैत्री कीजिये |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्रीजाल

                                                                                                                                                                                                                                                                                                     

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Death of Dhammachari Achalashil

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    15-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center - Order

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय संघ सदस्य

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हमे बताते हुए दुःख हो रहा है कि *धम्मचारी अचलशील* इनका आज दोपहर करीबन २.०० बजे देहांत हुआ है, वे ७१ साल के थे | कुछ दिन पहले उनको कोरोना के वजह से लोकमान्य अस्पताल भर्ती कराया गया था | अंतिम विधि आज शाम को ५.०० बजे निगडी में की जायेगी |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    वे संघ के जेष्ठ संघ सदस्य थे उनकी धम्मचारी दीक्षा २५ मार्च १९९३ को हुयी, धम्मचारी सुभूती उनके निजी और जाहिर उपाध्याय थे | पिछले कुछ साल से उन्होंने पिंपरी केंद्र में योगदान रहा |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कृपया उनके लिए अपने स्मृति बनाये रखे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्रीजाल

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    डॉ बाबासाहेब अंबेडकर जयंती देहरादून

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    15-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Makdoom Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    14-04-2021 को  हुए 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    बुद्ध विहार गुजेरोवाली , देहरादून में 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    डॉ बाबासाहेब अंबेडकर जयंती के अवसर पर विशेष पूजा कार्यक्रम हुई  


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचारी निर्मलबोधी इनका निधन

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    15-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center - Order

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय संघ सदस्य

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हमे बताते हुए दुःख हो रहा है की धम्मचारी निर्मलबोधि नागपुर इनका १४ अप्रैल करीबन शाम को ९.०० बजे निधन हुआ है | वे ६७ साल के थे और  कोविड के वजह से कुछ दिनों से अस्पताल में थे | स्वभाव से बहुत ही नम्र और नागपुर द.प. केंद्र के कार्यरत सदस्य थे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    उनकी धम्मचारी दीक्षा  २५ मई २०१४ को हुयी, नागकेतु उनके थे तथा जाहिर दीक्षा धम्मचारी चन्द्रशील इन्होने दी |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कृपया उनके लिए अपनी स्मृती बनाये रखे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कृपया निचे दिए गए लिंक पर आप अपनी संवेदना व्यक्त कर सकते है |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    https://www.triratnaindia.in/blogdetail.php?blogid=MTQ2

                                                                                                                                                                                                                                                                                                     

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्रीजाल 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    बुद्ध विहार का उद्घाटन हरियाणा- दिल्ली केन्द्र

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    12-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Bodhiprakash Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म बंधू आणि भगिनीनो
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नमो बुद्धाय जयभीम 
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हरियाणा में भी दिल्ली केन्द्र की तरफ से जनरल कार्य क्रम हो रहें अभी तक एक धम्म मित्र, संत लाल बौद्ध, गाँव धारूहेणा, हरियाणा हैं  दिनांक:- 11.04.2021,   सुबह 11 बजे से 01 बजे तक रोहतक बाईपास हरियाणा में एक जनरल कार्य क्रम हुआ, जिसमें एक नय बुद्ध विहार का उद्घाटन किया गया, जिसमें संचालन धम्म सहायक संजय( जींद, हरियाणा)  वन्दना भिक्षु ( जींद) ने की तथा प्रवचन धम्म चारी बोधि प्रकाश ने  " बुद्ध बोधिसत्व और भारतीय संविधान" पर  किया,  जो अच्छा फीडबैक देने वाला था, यह हरियाणा में दिल्ली केन्द्र की तरफ से 4 था कार्य क्रम है, प्रयास जारी है
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्म चारी बोधि प्रकाश

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    रक्तदान शिबिर

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    10-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Dh Yashoratna Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म भाई और बहनों
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    जय भीम नमो बुद्धाय
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ देहूरोड , काळेवाडी - थेरगांव आयोजित परमपूज्य बोधिसत्व परमपूज्य बोधिसत्व  डॉ . बाबासाहेब आंबेडकर यांच्या १३० वी जयंती निमित्त विनम्र अभिवादन !
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    रक्तदान सर्व बंधु - भगिनींना जयंतीच्या शिबिर हार्दिक शुभेच्छा !
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    १४ एप्रिल , २०२१ सकाळी ९ .०० ते दुपारी १.०० वाजेपर्यंत
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    स्थळ : बुद्धानुस्मृति विहार , एम.एम. फार्मसी कॉलेज शेजारी , काळेवाडी ,
                                                                                                                                                                                                                                                                                                    पुणे रक्तदान आहे जीवनदान , ते वाचवते दुसऱ्याचे प्राण 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    54 वा स्थापना दिन Online -अहमदाबाद केन्द्र

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    08-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Dipak Vidya Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ का 54 वा स्थापना दिन Online मनाया गया

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ, अहमदाबाद केन्द्र, गुजरात की ओर से साप्ताहिक दो दिवसिय online धम्म अभ्यास  वर्ग का आयोजन किया जाता है। वैसा ही आयोजन दिनांक 7/ 4/2021 के दिन किया गया था। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    यह दिख खास है, त्रिरत्न बौद्ध महासंघ के लिएआज ही के दिन संघ की स्थापना हुई थी। जिसके अवसर पर विषेश कार्यक्रम रखा गया और संघ का 54 वा स्थापना दिन मनाया गया।  

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    इस कार्यक्रम मे गुजरात के विभिन्न क्षेत्रों से लोग जुड़े थे। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कार्यक्रम की शुरुआत परंपरागत त्रिशरण- पंचशील, सकारात्मक पंचशील के साथ धम्मचारी मित्रसेनजी ने की। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचारी अमृतभद्र जी ने धम्मचारी हर्षभद्र जी का परिचय दिया। वर्धा से जुड़े हुए धम्मचारी हर्षभद्र जी ने अपने प्रवचन मे भन्ते संघरक्षित जी का परिचय दिया। उन्होंने भन्ते जी के जीवन के बारे मैं बताया।  साथ ही साथ उन्होंने Friends of Western buddhist Order पश्चिम मे और भारत मे त्रिलौक्य बौद्ध महासंघ जो पीछे से त्रिरत्न बौद्ध महासंघ एसा वैश्विक नाम दिया गया, एसे संघ की स्थापना और उनके साथ जुड़ी हुई गतिविधिओ के बारे मे बताया। भन्ते जी ने हमे एक नई धम्म द्रुष्टी प्रदान की है, जो हमे बाबा साहब को समज ने के लिए मदद करती है।  हमारे संघ का कार्य केवल आध्यात्मिक रहकर सामाजिक दर्जे का भी हुआ है।  उन्होंने संघ की सामाजिक प्रवृति जेसे की हॉस्टल, बालवाड़ी, कॉलेज, बुक पब्लिशिंग हाऊस, अश्वघोष सांस्कृतिक केंद्र आदि के बारे मे बताया।  खास करके, बाबा साहब के बाद धम्मक्रांति का कार्य भन्ते जी और उनके संघ ने बरकरार रखा है।  

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    इस उपलक्ष मे धम्मचारी अमृतभद्र जी ने भी अपने अंदाज मे भन्ते जी के बारे मे बताया और उनका पुण्यनुमोदन किया।  उपसस्थित सभी धम्ममित्र और धम्मसहायकों ने अपना मनोगत किया और धम्मचारी अमृतभद्र जी एवं धम्मचारी हर्षभद्र जी का पुण्यनुमोदन किया। कार्यक्रम का संचालन धम्ममित्र गौतम प्रियदर्शी ने किया।  

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्म-पालन-गाथा के संगायन के साथ कार्यक्रम की पूर्णाहुति की गई।             

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    रेपोर्टिंग - . मित्र गौतम प्रियदर्शी, भुज

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    भीम उत्सव -अश्वघोष सांस्कृतिक केंद्र

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    03-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By By Nagketu Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म भाई और बहनों

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    जय भीम नमो बुद्धाय

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    अश्वघोष सांस्कृतिक केंद्र द्वारा आयोजित ऑनलाइन भीम उत्सव के लिए आमंत्रित करते है | १२ और १३ अप्रेल शाम को ६.३० बजे आयोजित इस कार्यक्रम में शास्त्रीय उप शास्त्रीय भीम गीतों का कार्यक्रम का आयोजन किया है |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    इस कार्यक्रम का उद्घाटन धम्मचारी अमृतसिद्धी करेंगे, तथा संचालन धम्मचारी पद्मबोधि करेंगे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    इस कार्यक्रम के अधिक जानकरी के लिए आप धम्मचारी अनोमसिद्धी, प्रबोधमित्र, अश्वघोष, मैत्रेयादित्य, और धम्ममित्र शरद गजभिये इनसे संपर्क करे |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आप सभी परिवार के साथ इस कार्यक्रम में आमंत्रित है |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्री से

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    अश्वघोष सांस्कृतिक केंद्र भारत 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Bodhhisatva Dr. Babashebh Ambedkar 130th Birthday anniversary

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    01-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By TRIRATNA INDIA Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                    जयभीम


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    बोधीसत्व डॉ. बाबासाहब आंबेडकर इनके १३० वी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएँ ।


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आपसे अनुरोध हैं की, कृपया स्वयं "भीम उत्सव" की बुकिंग करें तथा यह पत्रीका आपके मित्र एवं रिश्तेदारों को फारवर्ड करें और उन्हें बुकिंग के लिए प्रोत्साहित करें | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कृपया,"भीम उत्सव " की सफलता के लिए सहयोग करें।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                            

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                   धन्यवाद !


                                                                                                                                                                                                                                                                                                                  आयोजक

                                                                                                                                                                                                                                                                                                         अश्वघोष सांस्कृतिक केंद्र

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                       भारत


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Online Youth Retreat

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    30-03-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Sugat Shakya Center - Triratna Youth

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न युवा शिविर 2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ, अहमदाबाद की युवा विंग

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न यूथ गुजरात की ओर से दिनांक 27/3/2021 से 29/3/2021 तक online त्रिरत्न युवा  शिविर का आयोजन किया गया था। इस शिविर की शुरुआत दिनांक 27/3/2021 की शाम परंपरागत त्रिविध अर्पण, त्रिशरण- पंचशील, सकारात्मक शील से धम्मचारीणी अनोमसूरी जी ने की। पहले दिन का संचालन धम्ममित्र कुमारजय शाक्य ने किया था। धम्मचारी आनंद शाक्य जी और धम्मचारी विद्यासागर जी ने शिविर का प्रास्ताविक प्रवचन दिया। जिसमे उन्होंने, डॉ बाबा साहब आंबेडकर की युवावस्था मे किए गये संकल्प के बारे मे बताया, जो बाबा साहब ने बरोडा मे किया था। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्ममित्र गौतम प्रियदर्शी ने युवा शिविर का हेतु बताते हुए कहा की, यह online शिबीर का आयोजन युवाओं के हृदय मे डॉ बाबा साहब आंबेडकर की प्रेरणा जागृत करनी। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    दूसरे दिन की सुबह 6:15 से 7:30 बजे तक आनपान सती ध्यान भावना और मैत्री भावना ध्यान का नेतृत्व धम्मचारी अमृतभद्र जी ने किया। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    10 से 12 बजे तक शिबीर का प्रथम प्रवचन "डॉ. बाबा साहब अंबेडकर युवाओ के प्रेरणास्त्रोत" विषय पर युवा धम्मचारी जिनसिद्धि जी ने दिया। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचारी जीनसिद्धि जी का परिचय NTI के भूतपूर्व विद्यार्थि ध.मित्र मिलन राठौड़ ने दिया। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचारि जिनसिद्धि ने अपने प्रवचन में बाबा साहब के जीवन, कार्य और उनकी द्रष्टी के बारे मे बताया। उन्होंने आदर्श किसे कहा जाए ? और प्रेरणा किसकी लेनी चाहिए ? युवाओ को अपने व्यक्तिगत जीवन मे फ़ैसले कैसे लिए जाए? आदि बातों पर मार्गदर्शन किया।  उन्होंने युवाओ को दो मुद्दे पर चिंतन करने को कहा। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    1. हमे हमारे व्यक्तिगत जीवन मे डॉ. बाबा साहब के किन गुण / क्रांति से प्रेरणा मिलती है? 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    2. डॉ. बाबा साहब की मूवमेंट मे हमारा क्या प्रतिसाद है?

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    इसी विषय पर धम्मचारी आनंद शाक्य जी ने अपना प्रवचन 3 से 5 बजे तक दिया। उनका परिचय NTI के भूतपूर्व विद्यार्थि धम्ममित्र राजरत्न नागवंशी ने दिया। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    ध. आनंदशाक्य ने अपने प्रवचन मे निम्नलिखित मुद्दों पर चर्चा की।  

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    - भारत देश मे युवाओ का महत्व खास तौर पर बुद्धिस्ट युवाओ का जिसमे, बाबा साहब को मानने वाले युवाओ का एक बहुत बड़ा वर्ग है। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    -"प्रेरणा" यह मूल संस्कृत शब्द "प्रेर" से आया हुआ है, जिसका मतलब किसी को किसी कार्य में प्रवृत्त करने की क्रिया या भाव।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    -बाबा साहब का ज्ञान और जीवन एक महासागर जैसा है, जिसके बारे मे भगवान बुद्ध महासागर के आठ गुण के बारे मे बताते है।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    -अन्य आठ बाते उन्होंने बताई जो बाबा साहब के जीवन मे देखने को मिलती है, जो युवाओ के लिए जरूरी है। एकरूप से यह आज के युवाओं कि महेच्छा है या प्रेरणास्त्रोत है।  

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    1. मुक्ति और गौरव 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    2. शिक्षा या मार्गदर्शन;

                                                                                                                                                                                                                                                                                                       अ. आजीविका के लिए शिक्षा

                                                                                                                                                                                                                                                                                                       ब. सामाजिक/लोकशाही की शिक्षा

                                                                                                                                                                                                                                                                                                       क. आध्यात्मिक शिक्षा

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    3. संस्कार या चारित्र्य; पंचशील

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    4. Infrastructure या मर्यादित संसाधन का महत्तम उपयोग

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    5. लोकशाही मूल्य पर आधारित संघ /समाज; (स्वतंत्रता, समानता और बंधुता) 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    6. आधुनिक अभिगम 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    7. वैज्ञानिक द्रष्टीकोण

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    8. सेवा का संकल्प; सामाजिक परिवर्तन मे खुद का योगदान 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    रात्री के सत्र मे धम्मचारीणी अनोमसूरी जी ने  सप्तांग पूजा का नेतृत्व किया था। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    दूसरे दिन का संचालन धम्ममित्र गौतम प्रियदर्शी  ने किया था।  हर प्रवचन के बाद ग्रुपचर्चा की गई थी।  

                                                                                                                                                                                                                                                                                                      तीसरे दिन सुबह 6:15 से 7 :00 बजे तक आनापान सती ध्यान भावना धम्मचारी अमृतभद्र जी ने करवाया।  

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    सुबह 10.00 से 12.00 बजे तक धम्मचारी आनंदशाक्य जी ने "डॉ. बाबा साहब अंबेडकर की धम्मक्रांति मे युवाओ की जिम्मेदारी" विषय पर अपना प्रवचन दिया। जिसमे उन्होंने निम्नलिखित बात कही। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    -उन्होंने धम्मक्रांति का महत्व समजाया

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    - क्रांति शब्द का अर्थ "इरादे के साथ किया गया आमूल परिवर्तन" 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    -अम्बेडकरवाद मतलब: अस्पृश्यता, जातिवाद निर्मूलन और स्वतंत्रता- समानता- बंधुता के सिद्धांत पर आधारित नए समाज की निर्मिती करनी, यह अंबेडकर वाद का प्रारंभ है जिसकी पूर्णता धम्मक्रांति से होती है । अंबेडकरवाद का हृदय एक मात्र बौद्ध धम्म ही है। अगर हमे अम्बेडकरवाद को जिंदा रखना है, तो हमे बाबा साहब की "धम्मक्रांति" को जीवित रखना होगा।  

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    -बाबा साहेब के अनुयायी को चार मुख्य प्रश्न पर चर्चा एवं चिंतन करना जरूरी है। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    1. डॉ. बाबा साहब अंबेडकर ने हिन्दू धर्म का त्याग क्यों किया? 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    2. डॉ. बाबा साहब अंबेडकर ने बौद्ध धम्म को ही क्यों स्वीकार किया? 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    3. डॉ. बाबा साहब अंबेडकर बिना किसी धर्म के क्यों नहीं रहे? 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    4. डॉ. बाबा साहब अंबेडकर ने साम्यवाद या माकस्वादी क्यों नहीं बने? 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    डॉ. बाबा साहब की धम्मक्रांति ने हमे आठ प्रकार की भेट-सोगाद दी है। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    1. नई जागृति या नई चेतना 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    2. नया अर्थ शास्त्र (Budhhist Economy)

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    3. नई संस्कृति 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    4. नई मित्रता 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    5. नई नैतिकता 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    6. नया उत्साह

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    7. नई निर्भयता 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    8. नया संघ

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    डॉ. बाबा साहब अंबेडकर की धम्मक्रांति मे युवाओं की जिम्मेदारी के लिए रूपरेखा: 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    1. सैद्धांतिक जानकारी (बाबा साहब और बौद्ध धम्म की) 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    2. सिद्धांतो को व्यवहार मे लाने के लिए रूपरेखा तैयार करनी 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    3. संकल्प निर्माण करना और समर्पित होना। 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                     2. सिद्धांतों को व्यवहार मे लाने के लिए क्या रूपरेखा होनी चाहिए ? 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    1. मन का प्रशिक्षण (शील -समाधि -प्रज्ञा) 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    2. संघ की निर्मिती करना

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    3. धम्म लोगो को उपलब्ध करवाना  (प्रचार -प्रसार) 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    4. करुणा भाव से समाज की सेवा करना   

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रवचन के बाद ग्रुपचर्चा की गई । 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    साम 3.00 से 4.00 बजे तक प्रश्न-उत्तर का सत्र रखा गया। जिसमे धम्मचारी आनंद शाक्य जी ने सभी युवाओ के प्रश्नों का उत्तर गहेराई से और संतोषपूर्ण तरीके से दिया। यह सत्र सही मे बौद्ध धम्म मे आने वाले युवाओ के लिए फलदाई रहा।  

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्म सहायक पंकज पाटील साहब ने त्रिरत्न बौद्ध महासंघ, अहमदाबाद की और से आयोजित कार्यक्रमों के बारे मे विस्तार से प्रेज़न्टैशन दिया।  

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    साम 4.00 से 5.00 बजे तक समापन समारोह रखा गया।  जिसमे उपस्थित युवा मित्रोने अपना मनोगत किया।  सभी को यह शिबीर बहोत लाभदायी लगी और बाबा साहब की धम्मक्रांति के बारे मे गंभीरता से कार्य करने का छोटा-छोटा संकल्प किया । 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    यवा शिबिर की आयोजक टीम त्रिरत्न यूथ गुजरात के धम्ममित्रों ने भी अपना मनोगत किया । 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आभार प्रदर्शन में धम्मचारी जिनसिद्धि जी का आभार एवं पुण्यानुमोदन व्यक्त किया जिन्होंने ज़ूम एप का लाइसेंस दिया और शिबीर का संचालन किया जा सका। धम्मचारी आनंद शाक्य जी का भी आभार एवं पुण्यानुमोदन व्यक्त किया जिन्होंने आयोजक टीम को प्रेरणा एवं सहायता की थी। धम्ममित्र देवसूत और धम्ममित्र प्रवीन ने ग्रुपचर्चा मे युवाओ का मार्गदर्शन किया था। धम्ममित्र प्रसेनजीत कौशल ने आभारविधि सम्पन्न की।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मपालन गाथा के संगायन के साथ कार्यक्रम की पूर्णाहुति की गई।  

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    रिपोटिग : धम्ममित्र गौतम प्रियदर्शी, भुज

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    दि:30.3.2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    One Day Retreat at Deharadoon

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    29-03-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmaditya Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म भाई और बहनों 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नमो बुद्धाय जयभीम 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आपको बताते हुए आनंद हो रहा है, की कई महीनो के लॉक  डाउन के बाद देहरादून धम्म केंद्र में एक दिवसीय शिविर का आयोजन किया गया | इस शिविर में सभी ने आनंद लिया | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्री से 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    कर्मादित्य 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    !!! IMPORTANT !!!

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    26-03-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Dm Waman Kale Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    KIND ATTENTION

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Covid-19 is now proved to be one of the deadliest pandemic all over the world!

                                                                                                                                                                                                                                                                                                     We know'prevention is better than cure'

                                                                                                                                                                                                                                                                                                     So,we have covid-19 vaccine for protection!!

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Dhammacharies,Dhammacharinies, Dhammamitras and all well wishers of the Triratna Boudh Mahasangh above the age of 60 years and those between age group of 45 and 59 with co-morbidities like Diabetes, hypertension and respiratory system diseases are requested to get 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    VACCINATED for their health safety.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                     Note: From 01/04/2021  all the persons above 45 years without co-morbidities are also eligible for vaccination.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                         For any assistance and query please contact Dhammamitra Dr Waman Kale on Mobile number:9422104000.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Retreat

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    15-04-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Bhaje Centre Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म भाई और बहनों,


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नमो बुद्धाय,जयभीम,  |  

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    सदधम्म प्रदीप ध्यान केंद्र भाजे की  तरफ से धम्मचारी शुभुति द्वारा लिए जाने वाले ऑनलाइन शिबिर के मार्गदर्शन से अभ्यास करते हुए शिबिरार्थी अपना शरणगमन अधिक सखोल कर सकते हैं यह कि                 धम्मचारी धम्मचारिणी तथा जी.एफ.आर (मित्रों महिला)    कालावधी 15 से ३० अप्रैल 2021  स्थल :  सदधम्म प्रदीप ध्यान केंद्र भाजे        पुरुष केवल 30 लोगों की मर्यादा मर्यादा मर्यादित संख्या विस्तृत जानकारी के लिए                                                                                                           

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Bodhichitta Vikas order study

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    22-03-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Kumarvajra Center - Order

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय संघ भाई और बहनों 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    जयभीम, नमो बुद्धाय 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    पिछले कुछ महीनो से हम आंतरराष्ट्रिय स्तर पर बोधीचित्त विकास का सराव कर रहे है, इसकी अधिक जानकारी लेकर बोधिचित्त अधिक गहराई से करने के लिए  हमने बोधीचित्त विकास ; संकल्पना और सराव इस विषय पर  अभ्यास का नियोजन किया है, जिसका नेतृत्व धम्मचारी धम्मचारी प्रज्ञादित्य करेंगे | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    दिनांक :- २४ से २६ मार्च २०२१ शाम को ६.३० से ८.३० तक 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    सभी संघ सदस्य इस अभ्यास में आमंत्रित है | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्री से

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्रीजाल 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    ऑर्डर ऑफिस 


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Order Study

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    22-03-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Kumarvajra Center - Order

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय संघ भाई और बहनों 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    जयभीम, नमो बुद्धाय 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आप सभी के लिए ऑनलाइन अभ्यास का नियोजन किया गया है |  दिनांक ५ से ८ अप्रेल २०२१ शाम को ४ से ६ बजे, धर्म पर श्रद्धा और निर्भरता " इस विषय पर   कुमारजीव इस अभ्यास का नेतृत्व करेंगे | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    सभी संघ सदस्य इस अभ्यास में आमंत्रित है | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्री से

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्रीजाल 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    ऑर्डर ऑफिस 




                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Magh Pournima

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    27-02-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By TBM Latur Center - Latur

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म भाई और बहनों 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    जयभीम

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आज शाम को माघ पौर्णिमा के उपलक्ष के प्रवचन में आप सभी का स्वागत है | 


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Retreat Plan 2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    15-01-2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By HRC, Bordharan Center - Retreat Center Bordharan

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    We are pleased to inform you that, we have started retreats at Hsuen Tsang Retreat Centre, Bordharan. We request you to participate in retreats. Please visit at www.hrcbor.in or www.triratnaindia.in



                                                                                                                                                                                                                                                                                                    S.W.Nagpur Study Retreat

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    23-10-2020

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center - Nagpur South-West

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म भाई और बहनों,

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नमो बुद्धाय,जयभीम,

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    हमें बताते हुए ख़ुशी हो रही है कित्रिरत्न बौध्द महासंघ द.प.नागपुर की तरफ से ऑनलाईन जनरल शिविर का आयोजन किया गया है |  मुक्ति कोण पथे  इस विषय पर आद. धम्मचारी पद्मबोधि  १३ से १७ जुलाई  शाम ६.३० से ८.३० बजे तक इस शिविर का नेतृत्व करेंगे |   

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    अधिक जानकारी  और इस ऑनलाईन शिविर में जुड़ने के लिए निचे दिए गए नंबर पर संपर्क करे | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                     7620629787, 9822708539, 9822701948 



                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्री से

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ द.प. नागपूर


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नियमित नोटिफिकेशन पाने के लिए Triratna india यह एप डाउनलोड कीजिये या https://www.triratnaindia.in  इस वेबसाईट पर अपना नाम रजिस्टर कीजिये |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    ऑनलाइन दीवाली शिविर

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    23-10-2020

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By TBM MAHENDRANAGAR Center - Nagpur Mahendranagar

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म भाई और बहनों 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नमो बुद्धाय जयभीम 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आप सभी को १३ से १७ नवंबर तक होने वाले ऑनलाइन दिवाली शिविर के लिए आमंत्रित करते है | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आदरणीय धम्मचारी नागभद्र कालम सूत इस विषय पर अभ्यास लेंगे | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    समय :- सुबह ११.०० से १.१५ बजे तक 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    सहयोग राशि रू २०० 


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आपके विनीत 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ महेंद्रनगर नागपुर 


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नोटिफिकेशन पाने के लिए गूगल प्ले स्टोर से Triratna india यह एप डाउनलोड कीजिये या

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    https://www.triratnaindia.in  इस वेबसाईट पर अपना नाम रजिस्टर कीजिये |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    64 Dhammackra Anupravartan Day

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    23-10-2020

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म भाई और बहनों 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नमो बुद्धाय, जयभीम 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आप सभी को धम्मचक्र प्रवर्तन दिन की हार्दिक शुभकामनाये | इस साल हम त्रिरत्न बौद्ध महासंघ के तरफ से ६४ धम्मचक्र प्रवर्तन दिन ऑनलाइन मनाने वाले है | २१ से २५ अक्तूबर तक चलने वाले इस इस महोत्सव में ऑनलाईन  प्रवचन मालिका का आयोजन किया गया है |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    यह सभी कार्यक्रम आप झूम एप तथा  हमारे यु-ट्यूब चैनल पर देख सकते है | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    https://www.youtube.com/c/TriratnaIndia तथा फेसबुक पेज पर देख सकते है |


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    शुक्रवार दिनाक २३ अक्तूबर ६ से ८.३० तक 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    विषय :- डॉ. बाबासाहेब अभिलाषित आर्थिक नीती तथा आज के समय में उनकी समर्पकता 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    शनिवार दिनांक २४ अक्तूबर ६ से ८.३० तक 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    विषय :- धर्मान्तर का अर्थ 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    रविवार दिनांक २५ अक्तूबर १० से १.०० बजे 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    विषय :- धर्मान्तर अनुप्रवर्तन दिन 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आप सभी इस कार्यक्रम में आमंत्रित है | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आपके विनीत 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ भारत 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नोटिफिकेशन पाने के लिए गूगल प्ले स्टोर से Triratna india यह एप डाउनलोड कीजिये या

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    https://www.triratnaindia.in  इस वेबसाईट पर अपना नाम रजिस्टर कीजिये |


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    द. प नागपुर अभ्यास शिविर

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    22-10-2020

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Sushil Center - Nagpur South-West


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म भाई और बहनों 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नमो बुद्धाय जयभीम 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आप सभी को  २७ से ३० अक्तूबर  तक होने वाले ऑनलाइन अभ्यास  के लिए आमंत्रित करते है | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आदरणीय धम्मचारी कुमारजीव जातीभेद निर्मूलन  इस विषय पर अभ्यास लेंगे | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    समय :- शाम को ५ से ७ बजे 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    दक्षिण पश्चिम केंद्र के नयी इमारत निर्माण हेतु  सहयोग राशि रू २०० रखी गई है |  


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आपके विनीत 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ द.प.नागपुर 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नोटिफिकेशन पाने के लिए गूगल प्ले स्टोर से Triratna india यह एप डाउनलोड कीजिये या

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    https://www.triratnaindia.in  इस वेबसाईट पर अपना नाम रजिस्टर कीजिये |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    ६४ धम्मचक्र प्रवर्तन महोत्सव

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    21-10-2020

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म भाई और बहनों 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नमो बुद्धाय, जयभीम 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आप सभी को धम्मचक्र प्रवर्तन दिन की हार्दिक शुभकामनाये | इस साल हम त्रिरत्न बौद्ध महासंघ के तरफ से ६४ धम्मचक्र प्रवर्तन दिन ऑनलाइन मनाने वाले है | २१ से २५ अक्तूबर तक चलने वाले इस इस महोत्सव में ऑनलाईन  प्रवचन मालिका का आयोजन किया गया है |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    यह सभी कार्यक्रम आप झूम एप तथा  हमारे यु-ट्यूब चैनल पर देख सकते है | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    https://www.youtube.com/c/TriratnaIndia तथा फेसबुक पेज पर देख सकते है |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    बुधवार २२ अक्तूबर शाम को ६ से ९ बजे तक 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    विषय :- डॉ. बाबासाहेब अभिलाषित सामजिक तथा सांस्कृतिक परिवर्तन 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    वक्ते :- धम्मचारी कुमारजिव 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                               माननिय  दिशा शेख 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                               झानसर खेंसे रिम्पोजे 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आप सभी इस कार्यक्रम में आमंत्रित है | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आपके विनीत 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ भारत 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नोटिफिकेशन पाने के लिए गूगल प्ले स्टोर से Triratna india यह एप डाउनलोड कीजिये या

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    https://www.triratnaindia.in  इस वेबसाईट पर अपना नाम रजिस्टर कीजिये |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचक्र प्रवर्तन दिन २१ अक्तूबर २०२०

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    18-10-2020

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Triratna Bouddha Mahasangha Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म भाई और बहनों 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नमो बुद्धाय, जयभीम 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आप सभी को धम्मचक्र प्रवर्तन दिन की हार्दिक शुभकामनाये | इस साल हम त्रिरत्न बौद्ध महासंघ के तरफ से ६४ धम्मचक्र प्रवर्तन दिन ऑनलाइन मनाने वाले है | २१ से २५ अक्तूबर तक चलने वाले इस इस महोत्सव में ऑनलाईन  प्रवचन मालिका का आयोजन किया गया है |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    यह सभी कार्यक्रम आप झूम एप तथा  हमारे यु-ट्यूब चैनल पर देख सकते है | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    https://www.youtube.com/c/TriratnaIndia तथा फेसबुक पेज पर देख सकते है |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    बुधवार २१ अक्तूबर शाम को ६ से ९ बजे तक 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    विषय :- मै बौद्ध क्यों हूँ |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    वक्ते :- धम्मचारी जिनरक्षित 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                धम्मचारिणी  अमोघदर्शिनी 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                धम्मचारी अमोघसिद्धी 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                  धम्मचारिणी  ताराहृदया 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                धम्मचारी  मैत्रेयबोधी 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                 धम्मचारी ज्ञानरत्न 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आप सभी इस कार्यक्रम में आमंत्रित है | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आपके विनीत 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ भारत 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नोटिफिकेशन पाने के लिए गूगल प्ले स्टोर से Triratna india यह एप डाउनलोड कीजिये या

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    https://www.triratnaindia.in  इस वेबसाईट पर अपना नाम रजिस्टर कीजिये |


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्म प्रवचन

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    17-10-2020

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center - Osmanabad

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म भाई और बहनों 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नमो बुद्धाय, जयभीम 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आप सभी को धम्मचक्र प्रवर्तन दिन की हार्दिक शुभकामनाये | रविवार  दिनांक  १८ अक्तूबर २०२० को  ऑनलाइन धम्मप्रवचन का आयोजन किया गया है |  आदरणीय धम्मचारी अमोघसिद्धी डॉ. बाबासाहेब आम्बेडकर की धम्मदृष्टी इस विषय पर प्रवचन देंगें  | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    समय सुबह १०.३०  बजे

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    झूम आय डी :- 85110655296

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    पासवर्ड :- 141454

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आपके विनीत 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ उस्मानाबाद 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    धम्मचक्र अनुप्रवर्तन दिन महोत्सव

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    16-10-2020

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Triratna Media Center-Triratna

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म भाई और बहनों 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नमो बुद्धाय, जयभीम 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आप सभी को धम्मचक्र प्रवर्तन दिन की हार्दिक शुभकामनाये | इस साल हम त्रिरत्न बौद्ध महासंघ के तरफ से ६४ धम्मचक्र प्रवर्तन दिन ऑनलाइन मनाने वाले है | २१ से २५ अक्तूबर तक चलने वाले इस इस महोत्सव में ऑनलाईन  प्रवचन मालिका का आयोजन किया गया है |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    यह सभी कार्यक्रम आप झूम एप तथा  हमारे यु-ट्यूब चैनल पर देख सकते है | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    https://www.youtube.com/c/TriratnaIndia तथा फेसबुक पेज पर देख सकते है |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    बुधवार २१ अक्तूबर शाम को ६ से ९ बजे तक 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    विषय :- मै बौद्ध क्यों हूँ |

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    गुरुवार २२ अक्तूबर शाम ६ से ८.३० बजे 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    विषय :- डॉ. बाबासाहेब अभिलाषित सामजिक तथा सांस्कृतिक परिवर्तन 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    शुक्रवार दिनाक २३ अक्तूबर ६ से ८.३० तक 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    विषय :- डॉ. बाबासाहेब अभिलाषित आर्थिक नीती तथा आज के समय में उनकी समर्पकता 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    शनिवार दिनांक २४ अक्तूबर ६ से ८.३० तक 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    विषय :- धर्मान्तर का अर्थ 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    रविवार दिनांक २५ अक्तूबर १० से १.०० बजे 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    विषय :- धर्मान्तर अनुप्रवर्तन दिन 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आप सभी इस कार्यक्रम में आमंत्रित है | 


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आपके विनीत 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ भारत 


                                                                                                                                                                                                                                                                                                    नोटिफिकेशन पाने के लिए गूगल प्ले स्टोर से Triratna india यह एप डाउनलोड कीजिये या

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    https://www.triratnaindia.in  इस वेबसाईट पर अपना नाम रजिस्टर कीजिये |



                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Dhammachakra Pravartan Day

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    12-10-2020

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    By Karmavajra Center - Pune Mahavihar

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    प्रिय धम्म भाई और बहनों 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    मैत्रीपूर्ण जयभीम 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आपको धम्मचक्र प्रवर्तन दिन की ढेर सारी शुभकामनाये |   

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    आशोका विजयादशमी के उपलक्ष में बुधवार दिनांक १४ अक्तूबर २०२० को शाम को ७.०० बजे आदरणीय धम्मचारी लोकमित्र इनका जाहिर प्रवचन का आयोजन किया गया है | आप सभी सहपरिवार इसका लाभ उठा सकते है | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    विषय :- धम्मक्रांति के यशस्वीता के लिए नया धम्मसेवक | 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    Meeting ID :- 85690747881 Passcode :- 424533

                                                                                                                                                                                                                                                                                                    त्रिरत्न बौद्ध महासंघ पुणे